About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Sunday 18 December 2011

बेहतर प्रशिक्षण के लिए खेल अकादमी जरूरी


0 देश के शीर्ष दूसरे नंबर के टेनिस खिलाड़ी विष्णुवर्धन रायपुर में
विष्णुवर्धन, अभिजीत तिवारी व छत्तीसगढ़ लान टेनिस संघ के पदाधिकारियों के साथ. 
रायपुर। देश के शीर्ष दूसरे नंबर के खिलाड़ी जे. विष्णुवर्धन का मानना है कि खिलाड़ियों को बेहतर प्रशिक्षण व खेल की बारीकियां सीखने के लिए खेल अकादमी का होना बहुत जरूरी है। इससे खिलाड़ियों को सीखने का भरपूर मौका मिलता है और खिलाड़ी अपना पूरा ध्यान सिर्फ खेल में ही लगाता है। विष्णुवर्धन रविवार को छत्तीसगढ़ क्लब में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। 
विष्णुवर्धन छत्तीसगढ़ लान टेनिस संघ के अध्यक्ष विक्रम सिसोदिया के साथ.
मध्य भारत के प्रतिष्ठित गोंडवाना कप अखिल भारतीय टेनिस टूर्नामेंट में शामिल होने आए विष्णुवर्धन ने कहा कि टेनिस बेहद टफ गेम है और इसमें देश में ही काफी काम्पीटिशन हो गया है। उन्होंने देश में टेनिस के इंफ्रास्ट्रक्चर के बारे में कहा कि भारत की तुलना अमेरिका, आस्ट्रेलिया या यूरोपीय देशों से नहीं कर सकते, लेकिन एशिया की बात की जाए तो भारत में टेनिस की बेस्ट सुविधाएं उपलब्ध हैं। भारत में टेनिस भी धीरे-धीरे लोकप्रिय हो रहा है। सानिया मिर्जा, लिएंडर पेस, महेश भूपति और अब सोमदेव देवबर्मन के प्रदर्शन से टेनिस को काफी लोकप्रियता मिली है। भारतीय टीम में विदेशी कोच की अनिवार्यता के बारे में कहा कि जरूरी नहीं विदेशी कोच हो। देश में भी टेनिस के कई अच्छे कोच हैं, लेकिन तकनीकी दृष्टि से विदेशी कोच बेहतर साबित होता है। उन्होंने देश में टेनिस कोच की कमी को नकारते हुए कहा कि यहां अब अच्छे कोच उपलब्ध हैं।  
छोटे शहरों में टेनिस को लोकप्रिय बनाने के लिए बेहतर सुविधाएं डेवलप करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि छोटे जगहों पर गोंडवाना कप जैसे टूर्नामेंट होने से लोकल खिलाड़ियों को बेहतर एक्सपोजर मिलता है। मैच में बड़े खिलाड़ियों को खेलते हुए देखकर वे प्रेरित होते हैं। टेनिस को उच्च वर्ग का खर्चीला गेम कहे जाने के बारे डेविस कप खिलाड़ी ने कहा कि अब ऐसा कहना ठीक नहीं होगा। उन्होंने कहा कि वे स्वयं भी एक मिडिल क्लास से हैं। देश के अधिकतर टॉप खिलाड़ी भी मिडिल वर्ग से हैं। 

भारत अभी अमेरिका, यूरोपीय देशों से पीछे
गोंडवाना कप में हिस्सा लेने वाले शीर्ष खिलाडी. 
पिछले साल ग्वांगझू एशियन गेम्स में सानिया मिर्जा के साथ मिक्स युगल में देश को रजत दिलाने वाले विष्णुवर्धन ने कहा कि टेनिस में हम हर लिहाज से अभी अमेरिका व यूरोपीय देशों से काफी पीछे हैं। वहां वर्ल्ड क्लास बेहतर सुविधाएं उपलब्ध हैं। अच्छी अकादमियां हैं। वहां के स्कूल लेवल के छोटे खिलाड़ी भी यहां के टॉप खिलाड़ी को हरा देंगे। रोजर फेडरर को अपना प्रिय खिलाड़ी मानने वाले विष्णुवर्धन ने कहा कि खेल में वातावरण व कल्चर का भी प्रभाव पड़ता है। भारत में क्रिकेट लोकप्रिय है, लेकिन अमेरिका इसमें शून्य है। 

दूसरी सानिया कौन? 
देश में दूसरी सानिया मिर्जा निकलने के बारे में विष्णुवर्धन ने कहा कि टेनिस बेहद टफ गेम में और इसमें बेहद स्टेमिना की जरूरत होती है। भारत में कल्चर ऐसा है कि लड़कियों को लंबे समय तक खेलने व खेल को करियर बनाने का मौका नहीं मिलता। सानिया भी अपने पैरेंट्स का पूरे समय सहयोग मिलने व खेलने की पूरी आजादी मिलने से ही वे इस मुकाम तक पहुंच सकीं। इसलिए टेनिस में अभी दूसरी सानिया की जगह बैडमिंटन में साइना नेहवाल की बात कर सकते हैं। 

No comments:

Post a Comment