About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Sunday 18 December 2011

सचिन 'भारत रत्न" हैं : पेस

0 स्टार टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने कहा- सबके लिए समान हो देश का सर्वोच्च पुरस्कार


रायपुर।
 गोंडवाना कप आल इंडिया टेनिस टूर्नामेंट में विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होने आए देश के स्टार टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने कहा है कि सचिन महान क्रिकेटर ही नहीं, एक अच्छे इंसान भी हैं। वे देश के सर्वोच्च पुरस्कार 'भारत रत्न" के हकदार हैं। 
उन्होंने सोमवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि पूरा भारत एक है। हम सभी नागरिकों को एक समान अधिकार प्राप्त है। ऐसे में देश के सर्वोच्च पुरस्कार भी सभी के लिए एक समान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो भी भारतीय चाहे वे स्पोर्ट्स, बिजनेस, राजनीति या किसी भी क्षेत्र के हों, जिन्होंने देश-दुनिया में बेहतर काम किया हो और जो 'भारत रत्न" अवार्ड को डिजर्व करते हांे, उन्हें यह अवार्ड जरूर मिलना चाहिए। ओलिंपिक में देश को कांस्य पदक दिलाने वाले स्टार टेनिस खिलाड़ी ने कहा कि सचिन एक बेहतर बल्लेबाज ही नहीं, बल्कि एक बेहतर इंसान भी हैं। 
पहली बार छत्तीसगढ़ आए पेस ने कहा कि उन्हें यहांॅ आकर बेहद खुशी हुई। यहांॅ आने के लिए पिछले सालभर से बात चल रही थी, जो अब जाकर संभव हो पाई। पेस ने कहा कि वे अभी लंदन ओलिंपिक की तैयारी में लगे हैं और इसके लिए काफी समय है। उन्होंने कहा कि देश में टेनिस के एकल में सानिया मिर्जा, महेश भूपति व सोमदेव देवबर्मन जैसे खिलाड़ी हैं, जो बेहतर खेल रहे हैं। ग्रैंड स्लेम में भूपति के साथ युगल जोड़ी नहीं बनाने के बारे में उन्होंने कहा कि प्रोफेशनल मैच अलग है, इसमें वे अपनी पसंद के खिलाड़ी के साथ जोड़ी बनाते हैं, लेकिन जब देश के लिए खेलते हैं तो वे हमेशा भूपति के साथ ही खेले हैं। इसके लिए इंडियन टेनिस फेडरेशन जिसके साथ भी जोड़ी तय करता है, उनके साथ वे खेलते रहे हैं। 

तेजी से लोकप्रिय हो रहा टेनिस 
तीन युगल व तीन मिक्स ग्रैंड स्लेम जीतने वाले पेस ने कहा कि टेनिस भारत में तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। अब तक भारत को  30 से अधिक ग्रैंड स्लैम खिताब मिल चुका है। साथ ही 20 से अधिक विभिन्ना इंटर नेशनल खिताब है, इसलिए टेनिस में भारत कमजोर नहीं है। यहां बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर भी हैं। इस हिसाब से भारत में टेनिस में बेहतर माहौल है। 

टफ गेम है टेनिस
टेनिस को खर्चीला व अमीरों का खेल कहे जाने के बारे में पेस ने कहा कि लोग कुछ भी कहते हैं, लेकिन टेनिस बेहद टफ गेम है। इसमें खिलाड़ी को बेहद कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। इसमें देश ही नहीं, वर्ल्ड लेवल पर बेहद टफ कॉम्पीटिशन है। खिलाड़ी को कठिन फिटनेस ट्रेनिंग लेनी पड़ती है।































No comments:

Post a Comment