About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Wednesday 2 March 2011

विश्व कप : केविन के धमाकों से ढहा इंग्लैंड


आयरलैंड ने इंग्लैंड को तीन विकेट से हराकर किया सबसे बड़ा उलटफेर 
केविन ओब्रायन
बेंगलुरु. मध्य क्रम के बल्लेबाज केविन ओब्रायन (113) की धमाकेदार बल्लेबाजी और एलेक्स कुसैक (47) के साथ छठे विकेट के लिए मात्र 103 गेंदों में 162 रनों की बेहतरीन साझेदारी और पुछल्ले बल्लेबाजों के साहस के दम पर आयरलैंड ने विश्व कप क्रिकेट में अब तक का सबसे बड़ा उलटफेर करते हुए इंग्लैंड को पांच गेंद शेष रहते तीन विकेट से हरा दिया। मैन आफ द मैच केविन ओब्रायन मात्र 50 गेंदों में सैकड़ा जड़कर विश्व कप का सबसे तेज शतक बनाने बल्लेबाज बन गए।
टूर्नामेंट के ग्रुप-बी के 15वें मुकाबले में केविन ने मैच का रुख ही पलट कर दिया और 63 गेंदों में 113 रन बनाने वाले केविन ने अपनी यादगार पारी में 13 चौका व छह छक्का जड़े। इस तरह आयरलैंड ने 49.1 ओवर में सात विकेट खोकर 329 रन बना लिए।
इससे पूर्व इंग्लैंड ने जोनाथन ट्राट (92) और इयान बेल (81) के बीच तीसरे विकेट के लिए हुए 167 रनों की साझेदारी के दम पर 50 ओवर में आठ विकेट पर 327 रन बनाए। ट्राट हालांकि आठ रन से अपने शतक से चूक गए। जबकि बेल और केविन पीटरसन (59) ने अर्धशतक लगाए। आयरिश गेंदबाज जान मूनी सबसे सफल गेंदबाज रहे जिन्होंने नौ ओवर में 63 ओवर रन देकर चार विकेट निकाले। इंग्लैंड का यह तीसरा मुकाबला था। इससे पहले उसने नीदरलैंड को छह विकेट से हराया। फिर भारत के खिलाफ रोमांचक जंग में मुकाबला टाई रहा था।
जवाब में आयरलैंड ने पहली गेंद पर कप्तान विलियम पोटरफील्ड (0) का विकेट गंवाने के बाद पाल स्टर्लिंग (32) एड जोयसे (32) और नील ओब्रायन (29) की साहसिक पारियों की बदौलत बढ़िया जवाब दिया, लेकिन ग्रीम स्वान (47/3) की शानदार फिरकी के आगे आयरिश टीम के शीर्ष क्रम के बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल सके। दूसरे विकेट के लिए स्टर्लिंग और जोयसे ने 62 रनों की साझेदारी की। लेकिन इसके बाद स्टर्लिंग ब्रेसनन की गेंद पर सीमा रेखा के पास कैच आउट हो गए। आयरलैंड ने पांच विकेट 111 रन पर गंवा देने से संकट में था। इसके बाद केविन का साथ देने कुसैक मैदान पर आए और दोनों ने संयम के साथ बल्लेबाजी शुरू की। लेकिन थोड़ी देर क्रीज पर जमने के बाद केविन ने आतिशी बल्लेबाजी शुरू कर दी और इंग्लैंड के हर गेंदबाज को बेरहमी से पीटा। दूसरी तरफ कुसेक ने एक छोर संभाल कर केविन का बखूबी साथ दिया। केविन की आतिशी बल्लेबाजी का परिणाम था कि दोनों ने मात्र 94 गेंदों में 150 रनों की विश्व कप की सबसे तेज डेढ़ सौ रनों की साझेदारी भी कर दी। केविन ने मात्र 30 गेंदों में अर्धशतक पूरा किया जबकि अगले 50 रन मात्र 20 गेंदों में ठोक दिया। हालांकि अच्छी पारी खेलने के बावजूद कुसैक एक रन चुराने के प्रयास से दुर्भाग्यशाली तरीके से रन आउट हो गए। दोनों ने बैटिंग पावर प्ले का भरपूर दोहन किया और पांच ओवर में 62 रन ठोक दिया। इसके बाद केविन ने जान मूने के साथ आराम से खेलते हुए टीम को लक्ष्य के बेहद नजदीक पहुंचा दिया। लेकिन जब टीम लक्ष्य से 11 रन दूर थी तभी केविन दो रन लेने के प्रयास में रन आउट हो गए।
इससे पूर्व टास जीतकर इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी करने के फैसले को सही साबित करते हुए लगभग सात रन प्रति ओवर की औसत से सलामी बल्लेबाजों एंड्रयू स्ट्रास और पीटरसन ने 91 रन जोड़ दिए। हालांकि पिछले मैच में भारत के खिलाफ यादगार मैच बचाऊ शतकीय पारी खेलने वाले स्ट्रास आज बड़ी पारी नहीं खेल सके और 34 रन बनाकर आउट हो गए। डोकरेल की गेंद पर बोल्ड होने से पूर्व स्ट्रास ने 37 गेंदों में दो चौका व एक छक्का जड़ा। पीटरसरन ने इसी बीच 40 गेंदों में अपना पचासा ठोक दिया। स्ट्रास के जाने के बाद केपी को अब ट्राट के रूप में बढ़िया साझीदार मिला। लेकिन केपी अपनी पारी को आगे नहीं बढ़ा से और 50 गेंदों में 59 रन बनाकर पाल स्टर्लिग की गेंद पर नील के हाथों लपके गए।
ट्राट ने नए बल्लेबाज बेल के साथ इंग्लैंड की पारी को आगे बढ़ाया और कमजोर आक्रमण का फायदा उठाते हुए दोनों 26 ओवर तक क्रीज पर डटे रहे तथा तेजी से 167 रन और जोड़ दिए। बेल ने लगातार दूसरे मैच में पचासा लगाया है। पिछले मैच में भारत के खिलाफ स्ट्रास के साथ शतकीय साझेदारी कर टीम को हार की मुंह से बाहर लाने वाले बेल ने आज भी अच्छी बल्लेबाजी की। ट्राट ने 55 गेंदों में अर्धशतक लगाया जबकि बेल को 50 रन पूरे करने में 61 गेंदें खेली। ऐसा लग रहा था कि दोनों बल्लेबाज अपना शतक आसानी से पूरा कर लेंगे लेकिन दोनों ही शतक जड़ने में नाकाम रहे। 86 गेंदों में छह चौका व एक छक्का जड़ने के उपरांत बेल 81 रन के निजी स्कोर पर जान मूने की गेंद पर स्टर्लिग ने लपक लिया। बेल के जाने के बाद ट्राट भी ज्यादा देर तक क्रीज पर नहीं रह सके और मूने की गेंद पर बोल्ड हो गए। आयरिश टीम को यह सफलता काफी देर बाद मिली क्योंकि ट्राट जिस वक्त आउट हुए उस समय टीम का स्कोर 288 रन हो चुका था। मैट प्रायर (6) और पाल कोलिंगवुड (16) तेजी से रन बनाने के चक्कर में आउट हो गए। 
केविन ने जड़ा सबसे तेज शतक
कमजोर मानी जा रही आयरलैंड के मध्यमक्रम के बल्लेबाज केविन ओब्रायन ने इंग्लैंड के खिलाफ मैच में बुधवार को विश्व कप का सबसे तेज शतक जड़ दिया। ब्रायन ने इंग्लैंड के गेंदबाजों की जमकर धुनाई करते हुए मात्र 50 गेंदों में 13 चौकों और छह छक्कों की मदद से विश्व कप का सबसे तेज और ओवरआल छठा सबसे तेज शतक ठोक दिया। ब्रायन ने आस्ट्रेलिया के मैथ्यू हेडन का 2007 के पिछले विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 66 गेंदों में शतक पूरा करने का रिकार्ड तोड़ दिया। पाकिस्तान के शाहिद अफरीदी के नाम 37 गेंदों में शतक पूरा करने का विश्व रिकार्ड है। दक्षिण अफ्रीका के मार्क बाउचर ने 44 गेंदों में, वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा ने 45 गेंदों में, अफरीदी ने 45 गेंदों में और श्रीलंका के सनत जयसूर्या ने 48 गेंदों में शतक पूरा किया है।
-------------------------------
 स्कोर कार्ड
इंग्लैंड रन                          गेंद    4          6
स्ट्रास बो डोकरेल                        34        37        2          1
पीटरसन कै ओब्रायन बो स्टर्लिंग           59        50        7          2
ट्राट बो मूनी                           92        92        9          0
बेल कै स्टर्लिंग बो मूनी                  81        86        6          1
कोलिंगवुड कै ओब्रायन बो मूनी            16        11        0          1
प्रायर बो जानसन                       6          5          1          0
ब्रेस्नन कै   जानसन बो मूनी             4          8          0          0
यार्डी बो जानसन                        3          6          0          0
स्वान नाबाद                           9          5          1          0
अतिरिक्त : 23, कुल :  50 ओवर में 8 विकेट पर 327 रन। 
विकेटपतन : 1-91 (एंड्रयू स्ट्रास, 13.3), 2-111 (केविन पीटरसन, 16.6), 3-278 (इयान बेल, 42.6), 4-288 (जोनाथन ट्राट, 44.3), 5-299  (मैट प्रायर, 45.6), 6-312 (पाल कोलिंगवुड, 46.6), 7-317 (माइकल यार्डी, 48.3), 8-327 (टिम ब्रेस्नन, 49.6). 
गेंदबाजी : बोयड रैनकिन 7-0-51-0, टेÑंट जानसन 10-0-58-2, अलेक्स कुसैक 4-0-39-0, जार्ज डोकरेल 10-0-68-1, जान मूनी 9-0-63-4, पाल स्टर्लिंग 10-0-45-1.
आयरलैंड                         रन    गेंद    4          6
पोर्टरफील्ड बो एंडरसन                 0          1          0          0
स्टर्लिंग कै पीटरसन बो ब्रेस्नन          32        28        5          1
जोयसे स्टंप्स प्रायर बो स्वान           32        61        3          0
एन ओब्रायन बो स्वान                29        36        2          1
विल्सन पगबाधा बो स्वान             3          14        0          0
के ओब्रायन रनआउट                 113      63        13        6
कुसैक रनआउट                     47        58        3          1
मूनी नाबाद                        33        30        6          0
जानसन नाबाद                     7          4          1          0
अतिरिक्त : 33, कुल :  49.1 ओवर में 7 विकेट पर 329 रन।  
विकेटपतन : 1-0 (पोर्टरफील्ड, 0.1), 2-62 (पाल स्टर्लिंग, 9.5), 3-103 (एन ओब्रायन, 20.2), 4-106 (जोयसे, 22.2), 5-111 (विल्सन, 24.2), 6-273 (कुसैक, 41.3), 7-317 (केविन ओब्रायन, 48.1).  
गेंदबाजी : जेम्स एंडरसन 8.1-1-49-1, स्टुअर्ट ब्राड 9-0-73-0, टिम ब्रेस्नन 10-0-64-1, माइकल यार्डी 7-0-49-0, ग्रीम स्वान 10-0-47-3, कोलिंगवुड 5-0-26-0.
--------------------------------
ट्रॉट ने 64 रन बनाकर तोड़ दिया
31 साल पुराना रिकार्ड
जोनाथन ट्रॉट
बेंगलुरु. इंग्लैंड के युवा बल्लेबाज जोनाथन ट्रॉट ने आयरलैंड के खिलाफ 64 रन बनाते ही वेस्ट इंडीज के दिग्गज बल्लेबाज विवियन रिचर्ड्स का रिकार्ड तोड़ दिया है। ट्रॉट ने महज 20 वनडे पारियों में करियर के 1000 वनडे रन पूरे कर लिए। इससे पहले सबसे तेज 1000 रन बनाने का रिकार्ड रिचर्ड्स के नाम था, जिन्होंने 21 पारियों में ये कीतिर्मान बनाया था।
ट्रॉट ने महज 20 वनडे मैचों में 52 से अधिक की औसत से करियर के 1000 वनडे रन पूरे करे हैं। इस दौरान ट्रॉट ने तीन शतक और आठ अर्धशतक लगाए हैं। ट्रॉट अब वनडे बल्लेबाजी का एक उभरता सितारा बन गए हैं। उन्होंने वेस्ट इंडीज के दिग्गज विवियन रिचर्ड्स के 31 साल पुराने रिकार्ड को निस्तेनाबूत कर अपना लोहा मनवा लिया है। ट्रॉट का ये फार्म इंग्लैंड को वर्ल्डकप में मदद कर सकता है। ट्रॉट ने हाल ही में आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ हुई वनडे सीरीज के सिडनी वनडे में शानदार 137 रन की पारी खेली थी।
वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 1000 रन वाले
जोनाथन ट्राट (इंग्लैंड) : 20 पारियां
विवियन रिचर्ड्स (वेस्ट इंडीज) : 21 पारियां
केविन पीटरसन (इंग्लैंड) : 21 पारियां
गॉर्डन ग्रिनेज (वेस्ट इंडीज) : 23 पारियां
--------------------------------

No comments:

Post a Comment