About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Tuesday 8 March 2011

विश्व कप : टेलर के सामने पाक पस्त

 न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान को 110 रन से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया
रोस टेलर
पल्लेकेल.  बर्थडे ब्वाय रोस टेलर की अपने 27वें जन्मदिन पर विस्फोटक शतकीय पारी (नाबाद 131) और तेज गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन से न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान को मंगलवार रात ग्रुप-ए के मुकाबले में 110 रन से करारी शिकस्त देकर विश्व कप के क्वार्टरफाइनल में पहुंचने का अपना दावा मजबूत कर लिया। रोस टेलर मैन आफ द मैच रहे।
 टेलर ने करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी खेलते हुए 124 गेंदों में आठ चौके और सात गगनचुंबी छक्के जडेÞ।  टेलर की इस पारी की बदौलत न्यूजीलैंड ने 50 ओवर में सात विकेट पर 302 रन का विशाल स्कोर खड़ा कर लिया। कीवी बल्लेबाजों ने आखिरी पांच ओवरों में दस छक्के और छह चौके जड़ते हुए 100 रन बटोर डाले।
 इसके जवाब में पाकिस्तानी टीम शुरुआती लड़खड़ाहट के बाद फिर उबर नहीं सकी। पाकिस्तान ने अपने चार विकेट 23 रन पर और छह विकेट 66 रन पर गंवा दिए थे। पाकिस्तानी पारी अंतत: 41.4 ओवर में 192 रन पर सिमट गई।  न्यूजीलैंड इस जीत के साथ चार मैचों से छह अंक लेकर ग्रुप-ए में अंकों के लिहाज से पाकिस्तान के बराबर चोटी पर आ गया है। न्यूजीलैंड और पाकिस्तान दोनों के छह-छह अंक हैं। न्यूजीलैंड ने विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ आठ मैचों में यह दूसरी जीत दर्ज की है। तेज गेंदबाज टिम साउथी ने शुरुआती छह विकेटों में से तीन विकेट और काइल मिल्स ने दो विकेट निकालकर पाकिस्तानी पारी को झकझोर दिया। कीवी तेज गेंदबाजों के इस आक्रमण से पाकिस्तानी बल्लेबाजी फिर संभल नहीं पाई।
 अब्दुल रज्जाक (62) का जुझारू  अर्धशतक भी पाकिस्तान को जीत के आस पास नहीं ले जा सका1 शीर्षक्रम की निराशा के बावजूद उन्होंने पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ उपयोगी साझीदारियां कर अपने प्रशंसकों की उम्मीदें बंधाने की पूरी कोशिश की लेकिन लक्ष्य उनसे बहुत दूर रह गया। रज्जाक ने 74 गेंदों का सामना कर नौ चौकों की मदद से 62 रन बनाए और 42वें ओवर में जाकर 191 रन के टीम स्कोर पर आउट हुए। यह रज्जाक का संघर्ष ही था जिसकी बदौलत पाकिस्तान के हार का अंतर 100 रन के पास रहा वर्ना उसे और भारी पराजय झेलनी पड़ती। इसी ओवर में पाकिस्तान की पारी सिमट गई। पाकिस्तान की शुरुआत बेहद खौफनाक रही। साउथी ने मोहम्मद हफीज (पांच) को पगबाधा कर दिया। पाकिस्तान का स्कोर अभी 23 रन पहुंचा था कि मिल्स ने अहमद शहजाद (10) को पगबाधा कर दिया और फिर इसी ओवर की चौथी गेंद पर यूनुस खान (शून्य) को बोल्ड कर पाकिस्तानी समर्थकों को सकते में डाल दिया।  अगले ही ओवर में साउथी की पहली गेंद पर कामरान अकमल (आठ) स्लिप में टेलर को कैच थमा बैठे। उपकप्तान मिस्बा उल हक साउथी का तीसरा शिकार बने। उन्होंने सात रन बनाए। मिस्बाह का कैच स्काट स्टायरिस ने लपका। कप्तान शाहिद आफरीदी (17) ने हालांकि नौ गेंदों पर दो चौके और एक छक्का उड़ाया। मगर जैकब ओरम ने उन्हें बोल्ड कर पाकिस्तान का स्कोर छह विकेट पर 66 रन कर दिया। सातवें विकेट के लिए रज्जाक ने उमर अकमल (38) के साथ मिलकर थोडा संघर्ष किया लेकिन दोनों खिलाड़ी 36 रन ही जोड़ सके थे कि तभी नाथन मैकुलम ने उमर अकमल को ओरम के हाथों कैच करवा पाकिस्तान की रही सही उम्मीदें भी तोड़ दीं।
 हालांकि रज्जाक ने एक छोड़ से संघर्ष जारी रखा और अब्दुर रहमान के साथ 23 रन जोड़े जिसमें रहमान का योगदान मात्र एक रन था। इसके बाद उन्होंने उमर गुल (नाबाद 34) के साथ नौंवे विकेट के लिए 66 रन की जीवट साझीदारी की। रज्जाक के आउट होने के बाद आये शोएब अख्तर बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गये और पाकिस्तान को हार का मुंह देखना पड़ा।
इससे पहले टेलर के सात छक्कों में से दो जबर्दस्त छक्के तो स्टेडियम के बाहर जाकर गिरे। टेलर ने जैकब ओरम (25) के साथ सातवें विकेट की तूफानी साझेदारी में मात्र 3.4 ओवर में 85 रन ठोक डाले। ओरम भी पीछे नहीं रहे। उन्होंने सिर्फ नौ गेंदों में एक चौका और तीन छक्के उड़ाए।
 बर्थडे ब्वाय टेलर ने अपने 27वें जन्मदिन को तूफानी अंदाज में मनाते हुए तूफानी गेंदबाज शोएब अख्तर के पारी के 47वें ओवर में तीन छक्के और दो चौकों सहित 28 रन बटोरते हुए विश्वकप का अपना पहला और कुल चौथा शतक बना दिया। टेलर को हालांकि शून्य और आठ के स्कोर पर शोएब की गेंद पर ही दो जीवनदान मिले थे जिसका उन्होंने भरपूर फायदा उठाया।  इसके बाद 49वें ओवर में टेलर ने अब्दुल रज्जाक की गेंदों पर तीन छक्के और दो चौके उठाते हुए 30 रन बटोर डाले। यानि दो तेज गेंदबाजों पर टेलर ने दो ओवर में 58 रन बटोरे। टेलर अपनी इस पारी में सात छक्के उडाने के साथ ही इस विश्वकप में सर्वाधिक सात छक्के मारने वाले आयरलैंड के केविन ओ ब्रायन की बराबरी पर आ गए हैं।
 पाकिस्तान के गेंदबाजों ने स्लाग ओवरों खासकर अंतिम चार ओवरों में बेहद खराब गेंदबाजी का प्रदर्शन किया। शोएब अख्तर और अब्दुल रज्जाक ने एक के बाद एक फुल टास गेंदें डालकर टेलर और ओरम को छक्के उड़ाने का मौका दे दिया। टेलर और ओरम जहां छक्के उड़ा रहे थे वहीं उनके एक-एक शाट पर पाकिस्तानी कप्तान शाहिद आफरीदी के चेहरे से हवाइयां उड़ती जा रही थी। न्यूजीलैंड का 45 ओवर की समाप्ति पर पांच विकेट पर 202 रन का स्कोर था। लेकिन अंतिम पांच   ओवरों में न्यूजीलैंड ने 100 रन ठोककर अपने स्कोर को 300 रन के पार पहुंचा दिया। पाकिस्तान की तरफ से एकमात्र सफल गेंदबाज उमर गुल रहे जिन्होंने 32 रन देकर तीन विकेट लिए।  शोएब अख्तर ने नौ ओवर में 70 रन. अब्दुल रज्जाक ने चार ओवर में 49 रन और अब्दुर रहमान ने दस ओवर में 60 रन लुटाए1 पिछले तीन मैचों में 14 विकेट लेने वाले आफरीदी इस बार 55 रन देकर एक विकेट ही ले पाए।
 टास जीतकर बल्लेबाजी करने उतरे न्यूजीलैंड की शुरआत खराब रही और ब्रैंडन मैकुलम छह रन बनाकर आउट हो गए। मैकुलम को शोएब ने बोल्ड किया। लेकिन इसके मार्टिन गुप्तिल ने ताबड़तोड़ शाट लगाते हुए छह चौकों की मदद से 57 रन ठोके जबकि दूसरे छोर पर जेमी होव मूकदर्शक बनकर खडेÞ रहे। गुल ने होव (चार) को पगबाधा किया।  इसके बाद गुप्तिल और टेलर के बीच तीसरे विकेट के लिए 57 रन की साझेदारी हुई। टेलर ने एक छोर संभालकर खेलते हुए न्यूजीलैंड की पारी को बांधे रखा। हालांकि जेम्स फ्रेंकलिन एक रन बनाकर,  स्काट स्टायरिस 28 रन बनाकर और नाथन मैकुलम 19 रन बनाकर आउट हुए।
 46वें ओवर में न्यूजीलैंड का स्कोर दो विकेट पर 210 रन था लेकिन इसके बाद टेलर के रौद्र रूप से पाकिस्तानी गेंदबाज सहम गए और देखते ही देखते न्यूजीलैंड का स्कोर चौकों-छक्कों की उडान के साथ 300 पार कर गया।  न्यूजीलैंड की ओर से साउदी ने आठ ओवर में 25 रन देकर तीन विकेट लिए जबकि काइल मिल्स, स्टायरिस और नाथन मैकुलम को दो-दो विकेट मिले। एक विकेट जैकब ओरम के खाते में गया।
-----------------------------
 स्कोर कार्ड
न्यूजीलैंड                                          रन    गेंद    4    6
गुप्तिल बो अफरीदी                             57    86    6    0
मैक्कुलम बो अख्तर                          6    3    0    1
हाउ पगबाधा बो गुल                         4    29    0    0
टेलर नाबाद                                    131    124    8    7
फ्रैंकलिन पगबाधा बो हफीज             1    2    0    0
स्टायरिस पगबाधा बो गुल              28    37    1    0
नाथन मैक्कुलम बो गुल                 19    10    1    2
ओरम कै गुल बो रहमान                 25    9    1    3
मिल्स नाबाद                                7    3    1    0
अतिरिक्त : 24, कुल :  50 ओवर में 7 विकेट पर 302 रन। 
विकेटपतन : 1-8 (ब्रेंडन मैक्कुलम, 0.4), 2-55 (जैमी हाउ, 12.3), 3-112 (मार्टिन गुप्तिल, 28.5), 4-113 (जेम्स फ्रैंकलिन, 29.1), 5-175 (स्काट स्टायरिस, 41.6), 6-210 (नाथन मैक्कुलम, 45.5), 7-295 (जैकब ओरम, 49.3).  
गेंदबाजी : शोएब अख्तर 9-0-70-1, अब्दुर रहमान 10-0-60-1, उमर गुल 10-1-32-3, अब्दुल रज्जाक 4-0-49-0, शाहिद अफरीदी 10-0-55-1, मोहम्मद हफीज 7-0-26-1.
पाकिस्तान                                      रन    गेंद    4    6
हफीज पगबाधा बो साउथी                 5    6    1    0
शेहजाद पगबाधा बो मिल्स              10    16    1    0
कामरान कै टेलर बो साउथी             8    16    1    0
यूनुस बो मिल्स                               0    3    0    0
मिस्बाह कै स्टायरिस बो साउथी     7    31    0    0
उमर कै ओरम बो नाथन               38    58    3    0
अफरीदी बो ओरम                         17    9    2    1
रज्जाक कै ओरम बो स्टायरिस      62    74    9    0
रहमान पगबाधा बो नाथन            1    10    0    0
गुल नाबाद                                   34    25    3    1
अख्तर कै नाथन बो स्टायरिस       0    2    0    0
अतिरिक्त : 10, कुल :  41.4 ओवर में 192 रन (आलआउट)।
विकेटपतन : 1-5 (मो. हफीज, 1.2), 2-23 (अहमद शेहजाद, 6.1), 3-23 (यूनुस खान, 6.4), 4-23 (कामरान अकमल, 7.1), 5-45 (मिस्बाह उल हक, 14.4), 6-66 (शाहिद अफरीदी, 17.1), 7-102 (उमर अकमल, 28.3), 8-125 (अब्दुर रहमान, 32.4), 9-191 (अब्दुल रज्जाक, 41.1), 10-192 (शोएब अख्तर, 41.4).
गेंदबाजी : काइल मिल्स 8-1-43-2, टिम साउथी 8-1-25-3, जैकब ओरम 10-1-47-1, जेम्स फ्रैंकलिन 5-0-26-0, नाथन मैक्कुलम 6-0-28-2, स्काट स्टायरिस 4.4-0-17-2.
-------------------------------------------------------------------------------
भारत भी दावेदार नहीं, विश्व कप 
सबके लिए खुला है : कपिल
नई दिल्ली. पूर्व भारतीय कप्तान कपिलदेव ने आज कहा कि यह क्रिकेट इतिहास का सबसे खुला विश्व कप है जिसमें सह-मेजबान भारत सहित किसी भी एक टीम को खिताब का प्रबल दावेदार नहीं माना जा सकता।
 कपिल देश की प्रमुख शैक्षणिक संस्था यूईआई ग्लोबल का ब्रांड एंबेसडर बनने के बाद संवाददाताओं से कहा कि यह इतिहास का सबसे खुला विश्व कप है जिसमें आप किसी एक टीम को खिताब का प्रबल दावेदार नहीं मान सकते। आज जैसे हालात हैं उसमें कोई भी टीम किसी भी टीम को हरा सकती है। उन्होंने कहा कि दक्षिण अफ्रीका ने इंग्लैंड को हराया और इंग्लैंड की टीम आयरलैंड से हार गई। वो जमाना गया जब किसी एक टीम की बादशाहत होती थी। वेस्टइंडीज और आस्ट्रेलिया ने कभी क्रिकेट की दुनिया पर राज किया था। लेकिन आज की तारीख में कोई भी टीम विश्व कप जीत सकती है। कपिल ने टीम इंडिया को खिताब का प्रबल दावेदार मानने से इन्कार करते हुए कहा कि कौन कहता है कि भारत खिताब का प्रबल दावेदार है। यह सब मीडिया का किया धरा है। कागज पर भले ही ऐसा दिखता हो लेकिन खिताब तो मैदान पर प्रदर्शन के दम पर जीता जाता है। उन्होंने कहा कि गेंदबाजी भारत की कमजोर कड़ी है और टीम का क्षेत्ररक्षण भी कमजोर है। चैंपियन बनने के लिए आपको खेल के हर विभाग में अच्छा प्रदर्शन करना होता है। मुझे लगता है कि टीम इंडिया पिछले दो वर्षों से जैसा प्रदर्शन कर रही है अगर वह वैसा ही प्रदर्शन करे तो टूर्नामेंट में काफी आगे तक जा सकती है।

No comments:

Post a Comment