About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Wednesday 16 March 2011

विश्व कप : आस्ट्रेलिया क्वार्टर फाइनल में

 बेंगलूरू. चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए आईसीसी विश्व कप-2011 के ग्रुप मुकाबले में आस्ट्रेलिया ने कनाडा को सात विकेट से हरा दिया। इस जीत के साथ ही आस्ट्रेलिया ग्रुप ए में शीर्ष पर पहुंच गया है। कनाडा द्वारा दिए गए 212 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए आस्ट्रेलिया की सलामी जोड़ी ब्रड हेडिन और शेन वाटसन ने टीम को मजबूत शुरूआत दी। इसके बाद पुछल्ले बल्लेबाजों को जीत का लक्ष्य हासिल करने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी और महज 34.5 ओवर में ही जीत हासिल कर ली।
29वें ओवर में पहले विकेट के रूप में ब्रैड हेडिन (88) जेएम डेविशन की गेंद पर आशीष बगाई के हाथों लपके गए। अगले ही ओवर में शेन वाटसन (94) चलते बने। उन्हें हरवीर बेडवॉन की गेंद पर ऑनरे आसिंडे ने लपका। 35वें ओवर में रिकी पोंटिंग (7) रन बनाकर ओसिंदे की गेंद पर लपके गए। माइकल क्लार्क (16) और कैमरन वाइट (04) नाबाद रहे।
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी कनाडा की टीम ने ग्रुप "ए" के इस मुकाबले में हीरल की तूफानी पारी की बदौलत 16 ओवरों में ही 100 रन बना लिए थे लेकिन बाद के बल्लेबाजों ने धीमे खेल से अपेक्षित लक्ष्य पर पानी फेर दिया।
45 गेंदों पर पांच चौकों और तीन छक्कों की मदद से 54 रनों की तूफानी पारी खेलने वाले हीरल के अलावा जुबिन सुरकारी ने 34 रनों का योगदान दिया जबकि कप्तान बगाई ने 39 रन बनाए। कार्ल व्हाथम ने 18 और हरबीर बैदवान ने 17 रनों का योगदान दिया।
कनाडा का तीसरा विकेट कप्तान आशीष बगाई के रूप में 150 रनों पर गिरा था। इसके बाद 61 रन जोड़कर बाकी के सात बल्लेबाज पेवेलियन लौट गए। कनाडाई पारी की तीन सबसे बड़ी साझेदारियां शुरूआती तीन विकेटों के लिए हुई। पहले विकेट के लिए जॉन डेविसन और हीरल ने 3.5 ओवरों में ही 41 रन जोड़ दिए थे। इसके बाद हीरल और सुरकारी ने 7.4 ओवरो में 41 रनों की साझेदारी को अंजाम दिया। तीसरी और सबसे बड़ी साझेदारी सुरकारी और बगाई के बीच हुई, जिसमें दोनों ने 16.5 ओवरों में विकेट बचाते हुए 68 रन जोड़े। अंतिम ओवरों में व्हाथम और बैदवान ने आठवें विकेट के लिए 28 रनों की साझेदारी की।
आस्टे्रलिया की ओर से ब्रेट ली ने सर्वाधिक चार विकेट लिए जबकि जेसन क्रेजा और शॉन टेट को दो-दो सफलता मिली। इसके अलावा मिशेल जानसन और शेन वॉटसन को भी एक-एक विकेट मिला।
ग्रुप "ए" के इस मुकाबले में जीत के साथ ही मौजूदा चैम्पियन आस्टे्रलिया शीर्ष पर पहुंच गया। इस ग्रुप से पाकिस्तान और न्यूजीलैंड की टीमें चार-चार जीत के साथ पहले ही क्वार्टर फाइनल में पहुंच चुकी हैं।
दोनों टीमों के 8-8 अंक हैं जबकि आस्ट्रेलिया के पांच मैचों से नौ अंक हो गए है और वह ग्रुप में चोटी पर पहुंच गया है। श्रीलंका 7 अंक हासिल किया हुआ है। इस ग्रुप से इन्हीं चार टीमों का क्वार्टर फाइनल में पहुंचना तय है क्योंकि जिम्बाब्वे, केन्या और कनाडा पहले ही दौड़ से बाहर हो चुके हैं।
कनाडा ने बनाया नया रिकार्ड
इस मैच की खास बात यह रही कि कनाडा ने गत चैंपियन टीम के शक्तिशाली गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ मौजूदा टूर्नामेंट में सबसे तेज 50 रन बनाने का नया रिकार्ड बना दिया। कनाडा ने मात्र 4.4 ओवरों में ही 50 रन ठोक डाले जिनमें से ओपनर हीरल पटेल का योगदान 36 रन है। पिछला रिकार्ड बंगलादेश के नाम था जिसने भारत के खिलाफ उदघाटन मैच में 4.5 ओवर में 50 रन बनाए थे।
इससे पहले, हीरल पटेल ने जिस अंदाज में पारी की शुरूआत की थी, उसे देखकर यही लगा था कि कनाडा विश्व चैम्पियन आस्टे्रलिया को बड़ा लक्ष्य देने में सफल रहेगा लेकिन अनुभव की कमी और आस्टे्रलियाई गेंदबाजी के अच्छे प्रदर्शन ने उसे 45.4 ओवरों में 211 रनों के मामूली योग पर सीमित कर दिया।

No comments:

Post a Comment