About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Wednesday 9 March 2011

विश्व कप : भारत क्वार्टर फाइनल में

युवी के आलराउंडर प्रदर्शन से पांच
विकेट से जीता भारत

नई दिल्ली. ग्रुप-बी के बुधवार को फिरोजशाह कोटला मैदान में हुए मुकाबले में भारत ने नीदरलैंड को 5 विकेट से मात दी। इसके साथ ही भारत ने क्वार्टर फाइनल में जगह पक्की कर ली। जीत के लक्ष्य 190 रनों का पीछा करने उतरी टीम इंडिया ने यह लक्ष्य महज 36.3 ओवर में ही पार कर लिया। टीम इंडिया का स्कोर 187 पहुंचने के बाद युवराज ने जीत का चौका जड़ा। इसके साथ ही कोटला मैदान में भारतीय क्रिकेटप्रेमी खुशी से झूम उठे। युवराज (51) और कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी (19) नाबाद रहे। हालांकि इस मैच में डच गेंदबाजों ने भारत की आधी टीम को पैवेलियन भेज दिया लेकिन युवराज व धोनी की जोड़ी को वे नहीं तोड़ पाए।
सहवाग और सचिन ने भारत को तेज शुरूआत दी और सचिन ने डोएशे के एक ही ओवर में लगातार तीन चौके जड़कर अपने इरादे जता दिए । इसके अगले ही ओवर में सहवाग ने भी 12 रन बटोरे। लेकिन सहवाग आक्रामकता में शॉट को नीचे नहंी रख पाए और मिड आॅफ पर कैच थमा बैठे। उन्होंने 26 गेंदों पर 39 रन बनाए। इसके दो ओवर बाद सचिन भी सीलार की गेंद को लपकने के चक्कर में लांग आॅफ पर लपके गए। उन्होंने 22 गेदों पर 27 रन बनाए। अभी भारत दो झटकों से उबर नहंीं पाया था कि सीलार ने अगली ही गेंद पर पठान को भी चलता कर भारत को बैकफुट पर ला दिया। हालांकि इसके बाद गंभीर और युवराज ने न सिर्फ पारी को संभाला बल्कि रन गति को भी बरकरार रखा। लेकिन गंभीर 28 रन पर पहुंचते ही धैर्य खो बैठे और बुखारी का शिकार बन गए।
इससे पहले गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन के बल पर भारत ने नीदरलैंड की पारी को 189 रनों पर समेट दिया है। नीदरलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और उसके नियमित अंतराल पर विकेट गिरते गए। इस तरह पूरी टीम 46.4 ओवर में 189 पर सिमट गई। भारत की ओर से जहीर खान ने 20 रन देकर 4 विकेट झटके जबकि युवराज सिंह और पीयूष चावला को भी दो दो विकेट मिले। नीदरलैंड की ओर से कप्तान पीटर बोरोन ने सबसे ज्यादा 38 रन बनाए।
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए हॉलैंड ने ठोस शुरूआत की और पहले 15 ओवर तक भारतीय गेंदबाजों को विकेट के लिए तरसा दिया। लेकिन 16वें ओवर में पीयूष चावला ने श्वार्जन्सकी को क्लीन बोल्ड कर हॉलैंड को पहला झटका दिया। इसके बाद भारतीय गेंदबाजों ने लगाम कस ली और डच बल्लेबाजों को खुलकर रन नहीं बनाने दिए। इसका दबाव हॉलैंड पर साफ दिखा और एक एक कर उनके विकेट गिरते गए।
एक समय 127 रन पर हॉलैंड के 7 विकेट गिर गए थे लेकिन मुदस्सर बुखारी ने कप्तान पीटर बोरोन के साथ आठवें विकेट के लिए तेजी से 38 रन जोड़े और टीम को सम्मानजक स्कोर तक पहुंचाया। लेकिन इससे पहले कि नीदरलैंड के पुछल्ले बल्लेबाज कोई कमाल दिखाते जहीर ने एक ही ओवर में उन्हें समेट दिया। श्वार्जन्सकी के 28 बेरासी के 26 और अंतिम ओवरों में बुखारी के 21 रनों की बदौलत नीदरलैंड 46.4 ओवर में 189 रन बनाने में कामयाब रहा। जहीर ने 20 रन पर 4 विकेट चटकाए जबकि चावला और युवराज को भी दो- दो विकेट मिले।
फिर चला युवी का जादू
नीदरलैंड के खिलाफ भारतीय गेंदबाज एक बार फिर से असहाय नजर आ रहे थे। ऐसे में एक बार फिर से पार्ट टाइम युवराज ने मुख्य गेंदबाज की भूमिका निभाई और जल्दी से दो विकेट चटकार हॉलैंड के मध्यमक्रम की रीढ़ तोड़ दी। युवराज ने पहले बरासी और फिर रेयान टेन डोएशे को पैवेलियन भेज दिया। युवी ने 9 ओवर में 43 रन देकर 2 विकेट लिए।
विकेट को तरसे भज्जी
हरभजन सिंह को एक बार फिर से विकेटों के लिए तरसना पड़ा। यह वर्ल्डकप अभी तक भज्जी के लिए अच्छा साबित नहीं हुआ है। हरभजन को उम्मीद थी कि हॉलैंड के खिलाफ उनकी फिरकी का जादू चलेगा लेकिन यहां भी उन्हें निराशा हाथ लगी। हालांकि उन्होंने ज्यादा रन नहीं लुटाए लेकिन विकेट भी नहीं ले पाए। उन्होंने 10 ओवर में 31 रन खर्च किए।
चावला को थोड़ी राहत
खराब प्रदर्शन के लिए अब तक आलोचनाओं के घेरे में खड़े लेग स्पिनर पीयूष चावला के लिए यह मैच कुछ राहत लेकर आया। चावला ने सिर्फ भारत को पहली सफल्ता दिलाई बल्कि दो विकेट लेकर कप्तान धोनी के विश्वास को भी सही साबित किया।
सचिन के नाम एक और रिकॉर्ड
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के नाम एक और अनोखा रिकॉर्ड जुड़ गया है। सचिन वर्ल्डकप के इतिहास में 2000 से ज्यादा रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं। हॉलैंड के खिलाफ 27 रनों की पारी के दौरान जैसे ही सचिन ने 18वां रन लिया वर्ल्डकप में उन्होंने 2000 रनों के जादुई आंकड़ों को छू लिया। सचिन का यह छठा वर्ल्डकपहै। वर्ल्डकप में सबसे ज्यादा 5 शतक बनाने का रिकॉर्ड सचिन पहले ही अपने नाम कर चुके हैं। सचिन के अलावा वर्ल्डकप में सबसे ज्यदा रन बनाने वालों की सूची में रिकी पोंटिंग शामिल हैं जिनके 42 मैचों में 1577 रन हैं।
युवराज के 100 विकेट और डबल पूरा
नई दिल्ली. भारत के पार्टटाइम स्पिनर और धुरंधर बल्लेबाज युवराज सिंह ने एकदिवसीय अंतरराष्टÑीय क्रिकेट मैचों में आज अपने 100 विकेट पूरे कर लिए। इसके साथ ही युवराज ने वनडे क्रिकेट में 100 विकेट और 1000 रन बनाने की दुर्लभ उपलब्धि भी हासिल कर ली। वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले नौवें   भारतीय हैं। बाएं हाथ के स्पिनर युवराज ने यहां फिरोजशाह कोटला मैदान में हालैंड के खिलाफ वेस्ली बरासे को पगबाधा करने के साथ ही वनडे में अपने 100 विकेट पूरे कर लिए। युवराज ने अपने 269वें वनडे में यह उपलब्धि हासिल की।  युवराज ने विश्व कप में अपने पिछले मैच में आयरलैंड के खिलाफ पांच विकेट लेने के साथ-साथ नाबाद 50 रन भी बनाए थे। युवराज ने वनडे में 100 विकेट लेने के अलावा 7797 रन भी बनाए हैं। जिसमें 12 शतक और 47 अर्धशतक शामिल हैं। युवराज से पहले कपिल देव, रवि शास्त्री, मनोज प्रभाकर, सचिन तेंदुलकर, सौरभ गांगुली, अजित आगरकर, हरभजन सिंह और इरफान पठान यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं।
---------------------------------------------------
स्कोर कार्ड
नीदरलैंड                                              रन    गेंद    4    6
स्वार्जिंस्की बो चावला                            28    42    4    0
बैरेसी पगबाधा बो युवराज                     26    58    2    0
कूपर कै धोनी बो नेहरा                        29    47    2    0
डोएश्चेट कै जहीर बो युवराज                  11    28    1    0
कर्वेजी कै हरभजन बो चावला               11    23    1    0
जुएडेरेंट पगबाधा बो जहीर                     0    6    0    0
ग्रूथ रनआउट                                      5    11    0    0
बोरेन कै नेहरा बो जहीर                      38    36    3    2
क्रुगेर रनआउट                                  8    12    1    0
बुखारी बो जहीर                               21    18    1    2
सीलार नाबाद                                  0    2    0    0
ृअतिरिक्त : 12, कुल :  46.4 ओवर में 189 रन (आलआउट)।
विकेटपतन : 1-56 (स्वार्जिंस्की, 15.2), 2-64 (बैरेसी, 18.6), 3-112 (रेयान टेन डोएश्चेट, 28.2), 4-100 (कूपर, 29.1), 5-101 (जुएडेरेंट, 30.6), 6-108 (डी ग्रूथ, 34.2), 7-127 (कर्वजी, 38.1), 8-151 (क्रुगेर, 42.2), 9-189 (बोरेन, 46.1), 10-189 (मुदस्सर बुखारी, 46.4). 
गेंदबाजी : जहीर खान 6.4-0-20-3, आशीष नेहरा 5-1-22-1, यूसुफ पठान 6-1-17-1, हरभजन सिंह 10-0-31-0, पीयूष चावला 10-0-47-2, युवराज सिंह 9-1-43-2.
भारत                                                 रन    गेंद    4    6
सहवाग कै कर्वेजी बो सीलार                39    26    5    2
सचिन कै क्रुगेर बो सीलार                   27    22    6    0
यूसुफ कै एंड बो सीलार                      11    10    1    1
गंभीर बो बुखारी                                28    28    3    0
कोहली बो बोरेन                               12    20    2    0
युवराज नाबाद                                51    73    7    0
धोनी नाबाद                                   19    40    2    0
अतिरिक्त : 4, कुल :  36.3 ओवर में 5 विकेट पर 191 रन।  
विकेटपतन : 1-69 (वीरेंद्र सहवाग, 7.3), 2-80 (सचिन तेंदुलकर, 9.1), 3-82 (यूसुफ पठान, 9.5), 4-99 (विराट कोहली, 14.3), 5-139 (गौतम गंभीर, 23.1).  
गेंदबाजी : मुदस्सर बुखारी 6-1-33-1, रेयान टेन डोएश्चेट 7-0-38-0, पीटर सीलार 10-1-53-3, पीटर बोरेन 8-0-33-1, टाम कूपर 2-0-11-0, ब्रेडली क्रुगेर 3.3-0-23-0.
---------------------------------------------------------

No comments:

Post a Comment