About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Wednesday 29 February 2012

बीएसपी की बास्केटबाल टीम बनी चैंपियन


पदक के साथ बीएसपी बास्केटबाल टीम की खिलाड़ी और कोच राजेश पटेल.  

0 हैदराबाद में हुई आल इंडिया बीएचईएल आमंत्रण बास्केटबाल चैंपियनशिप
रायपुर। हैदराबाद में हुई आल इंडिया बीएचईएल आमंत्रण बास्केटबाल चैंपियनशिप में बीएसपी की बालिका टीम चैंपियन बनी। फाइनल में टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए बीएचईएल रामचंद्रपुरम को 69-51 से हराकर खिताब पर कब्जा किया। 
बास्केटबाल के अंतर्राष्ट्रीय कोच राजेश पटेल का हुआ सम्मान. 
छत्तीसगढ़ बास्केटबाल संघ के महासचिव व टीम के कोच राजेश पटेल ने बताया कि फाइनल मुकाबला बेहद रोमांचक रहा। टीम की ओर से संगीता कौर ने सर्वाधिक 14 अंक, पूनम सिंह ने अपनी लम्बाई का फायदा उठाते हुए 12, कप्तान अंजना डेजी इक्का 11, शरणजीत कौर 10, रिया वर्मा आठ,  संगीता दास, पी. दिव्या, रश्मि वानखेड़े व अनामिका लकड़ा ने चार-चार अंक हासिल किए। संगीता कौर को सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार मिला। इसके पूर्व बीएसपी की टीम ने एनबीए हैदराबाद, बीएचईएल रामचंद्रपुरम, केरल हुपस्टर्स, एवं वायएमसीए सिकंदराबाद को पराजीत कर फाइनल में जगह बनाई। बीएसपी की बालिका बास्केटबाल टीम को 7500 रुपए ट्रॉफी मिली। समारोह में बीएचईएल रामचंद्रपुरम के प्रबंधन ने बीएसपी के अंतरराष्ट्रीय कोच राजेश पटेल को बास्केटबाल को बढ़ावा देने में उनके योगदान के लिए शाल एवं श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया। 
टीम में अंजना डेजी इक्का (कप्तान), पूनम चतुर्वेदी, शरणजीत कौर, संगीता कौर (सभी यूथ अंतराष्ट्रीय खिलाड़ी), संगीता दास, रश्मि वानखेड़े, पी. दिव्या, अनामिका लकड़ा, रिया वर्मा, रागिनी झा, निशा नेताम, वंदना आर्य व शीतल कौर शामिल थीं। कोच राजेश पटेल एवं मैनेजर सागरिका महापात्रा थीं। शशिकांत पांडे ने निर्णायक के रूप टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था। 
 भिलाई इस्पात संयंत्र के मुख्य कोच राजेश पटेल ने कहा कि बीएसपी की महिला टीम की यह भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन द्वारा दी जा रही सुविधाओं का परिणाम है। भिलाई इस्पात संयंत्र की महिला बास्केटबाल टीम की महत्वपूर्ण उपलिब्ध पर छत्तीसगढ़ बास्केटबाल संघ के चेयरमैन सोनमोनी बोरा, अध्यक्ष राजीव जैन, बीएसपी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी  पंकज गौतम, बीईसी के एमडी अरविंद जैन, छत्तीसगढ़ लान टेनिस संघ के अध्यक्ष विक्रम सिसोदिया, बीएसपी के कार्यपालक निदेशक कार्मिक एम. अखोरी , बीएसपी के मैनेजमेंट सर्विसेज के महाप्रबंच्च्क माधुरी मेनन, बीएसपी कार्मिक महाप्रबंध्ाक आरके शर्मा, बीएसपी के बास्केटबाल क्लब के अध्यक्ष एसआरए रिजवी, बीएसपी के उपमहाप्रबंध्ाक एके कयाल, बीएसपी के खेल एवं सांस्कृतिक एवं नागरिक सुविध्ााएं विभाग के सहायक महाप्रबंच्च्क मेहमुद हसन, बीएसपी बास्केटबाल क्लब के उपाध्यक्ष कमल सिंघल, बीएसपी के खेल प्रबंध्ाक सहीराम जाखड़, उपप्रबंध्ाक खेल बशीर अहमद खान, छग बास्केटबाल संघ के सहसचिव विजय देशपाण्डे, साजी टी. थॅामस, सरजीत चक्रवर्ती, इकबाल अहमद खान, आरएस गौर, एस. दुर्गेश राजू, एमवीवीजे सूर्यप्रकाश, अशोक धर, रामकुमार चंद्रा, शशिकांत पाण्डे आदि ने हर्ष व्यक्त करते हुए टीम की उपलब्ध्ाि पर बध्ााई दी है।
----------------

ट्रायल देने आने वाली थी पर आई नहीं

पूर्ति के घर के बहार नेटबाल संघ के पदाधिकारी और खिलाड़ी. 
0 मैदान पर खिलाड़ी करते रहे इंतजार
0 उनकी जगह आई मौत की सूचना
0 शोक में डूबे नेटबाल खिलाड़ी, ट्रायल रद्द

रायपुर। 
सप्रे शाला मैदान पर छत्तीसगढ़ की जूनियर व सीनियर नेटबाल टीम चयन के लिए ट्रायल का आयोजन था। रविवार को सीनियर टीम का ट्रायल होना था। इसमें प्रदेश की नेशनल खिलाड़ी पूर्ति तिवारी हिस्सा लेने आने वाली थी। सभी खिलाड़ी मैदान पर उनका इंतजार करते रहे, लेकिन वे नहीं आई। उनकी जगह मौत की सूचना आई तो मैदान पर किसी को यकायक विश्वास ही नहीं हुआ, क्योंकि पूर्ति शनिवार को भी जूनियर टीम के ट्रायल में आई थी और वह सीनियर टीम के चयन ट्रायल में हिस्सा लेने रविवार को सुबह 11 बजे मैदान पर आने की बात कहकर गई थी।
नेटबाल खिलाड़ी पूर्ति तिवारी 
उनकी मौत की सूचना मिलते ही सभी खिलाड़ी शोक में डूब गए। नेटबाल का ट्रायल रद्द कर दिया गया। सभी खिलाड़ी व नेटबाल संघ के पदाधिकारी तुरंत दावड़ा कालोनी उनके निवास पर गए तो वहां का गमगीन महौल देखकर सभी की आखें नम हो गईं। किसी को कुछ समझ ही नहीं आया कि शनिवार को ट्रायल में सबसे मिलकर आई मिलनसार खिलाड़ी अचानक आत्महत्या कैसे कर ली। पूर्ति ने असम नेशनल गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने वाली छत्तीसगढ़ टीम का प्रतिनिधित्व किया था। इसके अलावा उन्होंने चार सीनियर नेशनल चैंपियनशिप में भी हिस्सा लिया था। नेशनल गेम्स में प्रदर्शन के आधार पर उन्हें शहीद राजीव पांडे अवार्ड से सम्मानित किया गया था। उत्कृष्ट खिलाड़ी के तहत सेल्स टैक्स विभाग दुर्ग में सहायक ग्रेड-दो के पद पर उनकी नियुक्त हुई थी। 

सबको हंसाने वाली रुलाकर चली गईछत्तीसगढ़ नेटबाल संघ के सचिव संजय शर्मा का कहा कि इस अप्रत्याशित घटना पर वे बेहद आहत हैं। पूर्ति हंसमुख व मिलसार लड़की थी। प्रदेश संघ ने एक बेहतर नेशनल खिलाड़ी खो दिया। उनकी भरपाई मुश्किल है। उनके साथी खिलाड़ी व प्रदेश की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी प्रीति बंछोर का कहना है कि पूर्ति शनिवार को जब ट्रायल में आई थी तो हमेशा की तरह बेहद खुश थी। वे उनके बेहद क्लोज थीं और उन्होंने कभी भी उनको कोई प्राब्लम नहीं बताई। वे बेहद हेल्पिंग नेचर की थी। अपनी कामेडी से सबको हंसाते रहती थी, लेकिन वे आज सबको रुलाकर चली गई। उनके कोच सुधीर वर्मा ने कहा कि पूर्ति बेहद मिलनसार, लेकिन अनुशासित खिलाड़ी थी। पूर्ति पहले बास्केटबाल खेलती थी, लेकिन उपलब्धि नेटबाल में हासिल की। बेहतर प्रदर्शन के आधार पर ही उनका चयन लगातार चार सीनियर नेशनल चैंपियनशिप के लिए हुआ। रविवार को भी वे सीनियर टीम के ट्रायल में हिस्सा लेने आने वाली थी, लेकिन अचानक यह घटना घट गई। 

नेटबाल संघ ने दी श्रद्धांजलि
पूर्ति के निधन पर छत्तीसगढ़ नेटबाल संघ ने शोक सभा आयोजित कर उनको श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर संघ पदाधिकारी व खिलाड़ी मौजूद थे। संघ के सचिव संजय शर्मा ने बताया कि सीनियर टीम के रद्द ट्रायल बाद में आयोजित किया जाएगा।




राजदीप का गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड बरकरार


0 जंप रोप स्कीपिंग में वर्ल्ड रिकार्ड के एक साल पूरे
रायपुर। एक साल बाद भी प्रदेश के अंतरराष्ट्रीय जंप रोप खिलाड़ी राजदीप सिंह हरगोत्रा का गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड बरकरार है। राजदीप ने पिछले साल 25  फरवरी को कलर्स टीवी पर प्रसारित कार्यक्रम 'गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड्स, अब इंडिया तोड़ेगा" में जापान की मेगुमी सुजुकी के 30 सेकंड में 154 स्किप्स के रिकॉर्ड को ध्वस्त करते हुए 30 सेकंड में 159 जंप कर भारत के नाम के साथ ही छत्तीसगढ़ के खेल जगत का नाम भी विश्व पटल पर अंकित किया था।
 राजदीप को पिछले साल अगस्त में चीन की राजधानी बीजिंग में आयोजित सीसीटीवी के कार्यक्रम में सम्मान के लिए आमंत्रित किया गया था। यहां भी जापान की मेगुमी सुजुकी ने पुन: राजदीप सिंह के 30 सेकंड में 159 के रिकॉर्ड को सीसीटीवी के कार्यक्रम 'जंग डा जोंग यी" में तोड़ने की कोशिश की, लेकिन वह नाकाम रही। राजदीप ने वहां नया गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड रोलर स्केट्स पहनकर 30 सेकंड में 111 जंप का भी रिकार्ड बनाया। यह रिकार्ड भी अभी सुरक्षित है। 
  पहली वर्ष गाथ पूरी करने पर बधाई देने वालो में छत्तीसगढ़ प्रदेश प्लाम्पिक ससंघ के महासचिव श्री बलदेव सिंह भाटिया, श्री परमजीत सिंह दत्ता, कोशाध्यक्ष्य श्री विष्णु श्रीवाश्तव,त्रय्लाथान के महासचिव श्री अलोक दुबे, कोशाध्यक्ष्य संदीप गोविलकर, छत्तीसगढ़ जम्प रोपे संघ के महासचिव श्री अखिलेश दुबे, कोशाध्यक्ष्य श्री संजय शुक्ला, उपाध्याक्ष्य उमेश सिंह ठाकुर, सुधीर पिल्लै, वरुण पाण्डेय(टेबल साकार महासचिव), क्लुस्टर के रोहित श्रीवास्तव आदि ने बधाई दी |
--------------------------------------------------------------

राजदीप सिंह एवं साउथ एशियन पदक वीरों का हुआ सम्मान 
सम्मानित हुए जम्प रोप के खिलाड़ी. 
० जम्प रोप संघ ने मनाया पालक स्नेह सम्मलेन 
जम्प रोप खिलाड़ी एवं उनके अभिभावक. 
26  फरवरी रविवार जम्प रोप संघ एवं पलक प्रकोष्ठ के संयुक्त आयोजन में राजदीप सिंह के गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड के एक वर्ष पूर्ण होने पर एवं प्रथम साउथ एशियन चैम्पियनशिप में ऐतिहासिक प्रदर्शन कर भरत के लिए पदक जितने वाले छत्तीसगढ़ प्रदेश जम्प रोप खिलाडियों का सम्मान उनके पलको की उपस्थिति में छत्तीसगढ़ प्रदेश ओलंपिक संघ के कोशाध्यक्ष्य श्री विष्णु श्रीवास्तव एवं प्रशांत रघुवंशी, स्कूल शिक्षा विभाग के डिप्टी डिरेक्टर ऑफ़ स्पोर्ट्स (DPI) श्री एस आर कर्ष के हाथो सम्मान हुआ | अपने उद्बोधन में श्री विष्णु जी ने कहा की खेल के च्चेत्र में एवं खेल संघो के इतिहास में एक नविन परम्परा की शुरुवात हुई की खिलाडियों का उत्साह बढ़ने के सभी खिलाडियों के परिवार के लोगो ने सामूहिक आयोजन करके और खेल - खिलाडी, खेल संघ और उनके परिवार के साथ मजबूत संबंधो को और मजबूत बनता है | श्री एस आर कर्ष जी ने सभी सफल पदक विजेता खिलाडी एवं उनके पलको को उनके अथक प्रयासों के लिए उन्हें बधाई दी | 
सर्वप्रथम बच्चो ने केक काट कर अपने सफलता के  उत्सव का आगाज किया, डीजे के मधुर संगीत पर खूब थिरके | छत्तीसगढ़ प्रदेश ओलंपिक संघ के महासचिव श्री बलदेव सिंह भाटिया जी ने सभी पदक विजेता खिलाडियों को उनकी उप्लाद्धि पर हार्दिक शुभकामनाये दी | इस अवसर पर श्री बलवीर सिंह हरगोत्रा, दीपक बित्तुर्वार, बप्पी भट्टाचार्य, श्याम मोह्दिकर, नवनीत झा, प्रकाश वजरे, प्रवीण त्रिपाठी, रोहित श्रीवास्तव(क्लस्टर) आदि उपस्थित थे |

Tuesday 21 February 2012

जंप रोप में छत्तीसगढ़ ने जीते सात स्वर्ण समेत 22 पदक


0 12 रजत और तीन कांस्य पदक भी मिले
0 औरंगाबाद में हुई 8वीं जूनियर व सीनियर नेशनल चैंपियनशिप

रायपुर।
महाराष्ट्र के औरंगाबाद में हुई 8वीं जूनियर एवं सीनियर नेशनल जंप रोप चैंपियनशिप में छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए सात स्वर्ण, 12 रजत व तीन कांस्य समेत कुल 22 जीते।
छत्तीसगढ़ जंप रोप एसोसिएशन के सचिव अखिलेश दुबे ने बताया कि प्रदेश को जूनियर वर्ग में पहला स्वर्ण अभिजीत मोहिदकर ने 30 सेकंड स्पीड में दिलाया। दूसरा स्वर्ण डबल अंडर में जीता। साथ ही फ्री-स्टाइल और एंड्युरेंस तीन मिनट में रजत पदक हासिल किया। टीम के रक्षक वजरे को अंडर 20 आयु वर्ग में 30 सेकंड स्पीड में रजत पदक ,  तीन मिनट एंड्युरेंस में रजत व डबल अंडर में कांस्य पदक मिला। 20 वर्ष से कम आयु वर्ग के टीम इवेंट स्पीड रिले में दिव्यांश झा, प्रतीक राठौड़, हिमांशु बितुरवार व अमन ध्रुव ने रजत एवं डबल अंडर रिले में रजत पदक पर कब्जा किया। डबल डच स्पीड रिले में अभिजीत मोहिदकर, रक्षक वजरे, हिमांशु बितुरवार ने स्वर्ण पदक जीता। साथ ही डबल डच पैर्स रिले में अभिजीत, हिमांशु, रक्षक एवं दिव्यांश झा की टीम ने रजत पदक हासिल किया। डबल डच फ्री-स्टाइल में इस जोड़ी ने 15 अंकों के साथ स्वर्ण पदक पर कब्जा किया।
जूनियर वर्ग में 14 राज्यों के बीच हुए टीम डेमो स्पर्धा में छत्तीसगढ़ की टीम ने शानदार संगीतमय प्रदर्शन कर स्वर्ण पदक हासिल किया। जूनियर टीम में अभिजीत मोहिदकर, रक्षक वजरे, हिमांशु बितुरवार, अमन ध्रुव, उत्कर्ष त्रिपाठी, प्रतीक राठौड़, यश राज सिंह, रितेश जोशी, आकाश साहू, मयंक लहरें व दिव्यांश झा शामिल हैं।
सीनियर वर्ग में अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी राजदीप सिंह हरगोत्रा के नेतृत्व में टीम ने शानदार प्रदर्शन किया। सीनियर वर्ग का पहला पदक सलज जैन ने तीन मिनट एंड्युरेंस में रजत पदक जीता। राजदीप के नेतृत्व में टीम इवेंट की स्पीड रिले में अभिजीत, रक्षक व अंकित तिग्गा ने रजत पदक एवं डबल अंडर रिले में रजत पदक जीता। डबल डच स्पीड रिले में राजदीप सिंह ने अभिजीत एवं रक्षक के साथ मिलकर स्वर्ण पदक हासिल किया। साथ ही डबल डच पैर्स रिले में राजदीप सिंह ने अभिजीत, रक्षक व अंकित तिग्गा के साथ रजत पदक जीता एवं डबल डच फ्री-स्टाइल में सर्वाधिक 15 अंक अर्जित कर स्वर्ण पदक प्राप्त किया।
बालिकाओं ने स्वर्ण व कांस्य जीते
सीनियर बालिका वर्ग में सिदरा फातमा, तुर्षा रजवाड़े, अंजलि शर्मा, सुष्मिता पटेल की टीम ने स्पीड रिले में एक मात्र कांस्य पदक हासिल किया। सीनियर वर्ग की टीम डेमो स्पर्धा में संगीतमय रोप के साथ जंप की सभी स्किल का प्रयोग करते हुए स्वर्ण पदक जीता।
जंप रोप खिलाड़ियों की उपलब्धि पर छत्तीसगढ़ ओलिंपिक संघ के महासचिव बलदेव सिंह भाटिया समेत प्रदेश जंप रोप के पदाधिकारियों हर्ष व्यक्त करते हुए भविष्य में भी बेहतर प्रदर्शन की कामना की है।
-----------------
राजदीप फेडरेशन के तकनीकी अधिकारी नियुक्त
रायपुर। छत्तीसगढ़ के अंतरराष्ट्रीय जंप रोप खिलाड़ी राजदीप सिंह हरगोत्रा को भारतीय जंप रोप महासंघ ने तकनीकी अधिकारी नियुक्त किया है। उन्हें देशभर में प्रशिक्षक तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई है।
छत्तीसगढ़ जंप रोप संघ के सचिव अखिलेश दुबे ने बताया कि महाराष्ट्र के औरंगाबाद में हुई 8वीं राष्ट्रीय जूनियर एवं सीनियर जंप रोप चैंपियनशिप के दौरान फेडरेशन की वार्षिक बैठक आयोजित की गई। इसमें फेडरेशन की महासचिव सुनीता जोशी ने वर्ष 2011-12 का वार्षिक आय-व्यय प्रस्तुत किया। साथ ही वर्ष 2012-13 के लिए आवश्यक निर्णय लिए गए। इसके तहत 9वीं सब-जूनियर चैंपियनशिप उत्तरप्रदेश, जूनियर प्रतियोगिता हरियाणा तथा सीनियर राष्ट्रीय जंप रोप चैंपियनशिप की मेजबानी तमिलनाडु को सौंपी गई।
जंप रोप संघ के विभिन्ना प्रदेशों से आए सचिवों के मध्य दिल्ली के उपाध्यक्ष राजेश तोमर ने तकनीकी समिति बनाने का प्रस्ताव रखा, जिसका समर्थन कर्नाटक के सचिव टीए रजाक ने किया। इस समिति का कार्य राष्ट्रीय स्पर्धा का संचालन एवं पूरे देश में जंप रोप के रेफरी सेमिनार एवं प्रशिक्षक तैयार करना होगा। इसमें नार्थ जोन से पंजाब के राजेश थापा, साउथ जोन से कर्नाटक के चंद्रू, ईस्ट जोन से मणिपुर के श्याम कुमार, वेस्ट जोन से महाराष्ट्र के विक्रम दुधारे एवं सेंट्रल जोन से छत्तीसगढ़ के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी राजदीप सिंह हरगोत्रा को तकनीकी अधिकारी नियुक्त किया गया। समिति के चेयरमैन उत्तरप्रदेश के अभिषेक जोशी को बनाया गया है।

डीजीएम का पुत्र मोह बीएसपी को महंगा पड़ा

0 बेटे को फाइनल में खिलाने की जिद
0 सीएम ट्रॉफी अंतर जिला क्रिकेट टूर्नामेंट में भिलाई विजेता घोषित
भिलाई/रायपुर। मुख्यमंत्री ट्रॉफी अंतर जिला क्रिकेट टूर्नामेंट जैसी प्रतिष्ठित स्पर्धा के फाइनल में रविवार को बीएसपी के डीजीएम स्पोर्ट्स महमूद हसन की मनमानी और पुत्र मोह टीम को ले डूबी। बेटे मोहतसिम हसन को मैच में नहीं खेलने देने पर डीजीएम ने मैच का ही बहिष्कार कर दिया। पूरे घटनाक्रम के बाद निर्णायकों ने भिलाई को वाकओवर देते हुए विजेता कर दिया। डीजीएम की जिद से अब बीएसपी के छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ के टूर्नामेंट में खेलने को लेकर प्रश्न चिह्न लग गया है।
 मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नाम पर छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ ने सीएम ट्रॉफी सीनियर अंतर जिला क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया। स्पर्धा का फाइनल सेक्टर-10 बीएसपी क्रिकेट ग्राउंड में भिलाई इस्पात संयंत्र (बीएसपी) और भिलाई क्रिकेट एसोसिएशन (बीसीए) के बीच खेला जाना था। छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ ने मैच के पूर्व ही स्पष्ट कर दिया था कि जो खिलाड़ी अन्य राज्यों में रजिस्टर्ड हैं। उन्हें छत्तीसगढ़ से नहीं खेलने दिया जाएगा। यही नहीं ऐसे खिलाड़ियों के नाम भी सूचीबद्ध कर भेजा गया था। फाइनल मैच के अंपायर अतुल टॉक और मनोज तिवारी ने टॉस करने के पूर्व दोनों टीमों के खिलाड़ियों की अंतिम सूची मांगी, जो इस मैच में खेलने वाले थे। बीएसपी की सूची में मोहतसिम हसन का भी नाम था, जबकि बीसीए के भीमाराव, अभिषेक खरे और अभिषेक ताम्रकार का नाम सूचना मिलने के बाद खिलाड़ियों की सूची से नाम काट दिया गया था। अंपायर ने बीएसपी की ओर से मोहतसिम हसन के मैच में खेलने पर आपत्ति की और उन्हें टीम से हटाने की बात कही। इस पर बीएसपी के डीजीएम (स्पोर्ट्स) महमूद हसन अपने बेटे मोहतसिम को मैच खिलाने पर अड़ गए। श्री हसन पूर्व रणजी क्रिकेटर रह चुके हैं। इस मामले में उन्होंने यहां तक कह दिया कि यदि उनका बेटा मोहतसिम मैच में नहीं खेलेगा तो बीएसपी की टीम फाइनल में नहीं उतरेगी। एक तरह से धमकी भरे लहजे के कारण दोनों अंपायरों ने छग स्टेट क्रिकेट संघ के सचिव राजेश दवे से दिशा-निर्देश मांगा। इसके बाद बीएसपी की टीम को मैदान में उतरने के लिए 15 मिनट का समय दिया गया, लेकिन डीजीएम की हठधर्मिता से बीएसपी की टीम मैदान पर नहीं उतरी। खिलाड़ी चाहकर भी डीजीएम के निर्णय का विरोध नहीं कर सके, क्योंकि उन्हें चेतावनी मिल गई थी कि अपना मुंह बंद रखे। अंतत: मैच के अंपायरों ने सीएससीएस के मार्गदर्शन में भिलाई क्रिकेट एसोसिएशन को विजेता घोषित कर दिया। इस पूरे घटनाक्रम के बाद 'नईदुनिया" ने जब डीजीएम श्री हसन से संपर्क साधा तो उनसे बात नहीं हो पाई।
बीएसपी से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा : दवे
 इस मामले में छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ के सचिव राजेश दवे ने कहा कि यह नियमों की अवहेलना और अनुशासनहीनता का मामला है। श्री दवे ने 'नईदुनिया" से चर्चा में कहा कि भिलाई इस्पात संयंत्र को चार दिन पहले ही ई-मेल के जरिए नियम की सूचना देते हुए खिलाड़ी का नाम भी स्पष्ट कर दिया था कि ये मैच नहीं खेलेंगे। उन्होंने कहा कि मोहतसिम हसन मध्यप्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन से रजिस्टर्ड खिलाड़ी हैं जो इस वर्ष जबलपुर डिवीजन से खेले हैं। बीसीसीआई और सीएससीएस के नियमानुसार एक खिलाड़ी एक कैलेंडर वर्ष में एक ही स्टेट से खेल सकता है। चूंकि सीएम ट्रॉफी एक ऑफिशियल व प्रतिष्ठित टूर्नामेंट है, इसलिए हम निर्धारित नियमों की कड़ाई से पालन कर रहे हैं। श्री दवे ने कहा कि इस मामले में बीएसपी से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा।




बीएसपी टीम को जारी होगी नोटिस
0 सीएम ट्राफी फाइनल मैच के बहिष्कार का मामला
0 छत्तीसगढ़ क्रिकेट संघ पूरे घटनाक्रम को लेकर गंभीर
0 नोटिस देकर जवाब-तलब किया जाएगा

रायपुर।
छत्तीसगढ़ क्रिकेट संघ ने सीएम ट्राफी सीनियर अंतर जिला क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल मैच के बहिष्कार के मामले को गंभीरता ले लिया है। प्रदेश क्रिकेट संघ शीघ्र ही बीएसपी को नोटिस जारी कर मामले की जानकारी लेकर रिपोर्ट अनुशासन समिति को सौंपेगा।
छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ के सचिव राजेश दवे ने कहा कि यह टूर्नामेंट पूरी तरह बीसीसीआई के मापदंडों के अनुरूप हुआ है और उनके नियमों की अवहेलना नहीं की जा सकती। यह मामला गंभीर है और इस पर उचित कार्रवाई की जाएगी। प्रदेश क्रिकेट संघ शीघ्र ही बीएसपी को नोटिस जारी कर उन्हें जवाब देने का मौका देगा। फिर इस मामले को संघ की अनुशासन समिति के सामने रखा जाएगा। अनुशासन समिति ही अंतिम कार्रवाई करेगी।
कोई भेदभाव नहीं : दवे
श्री दवे ने कहा कि टूर्नामेंट के आयोजन में कोई भेदभाव नहीं हुआ है। यह पूरी तरह नियमों के अनुरूप हुआ है। टूर्नामेंट शुरू होने से पहले ही दूसरे राज्यों से रजिस्टर्ड खिलाड़ियों को नहीं खिलाने संबंधी निर्देश जारी कर दिया गया था। टूर्नामेंट के दौरान प्रदेश संघ को रायपुर, बीएसपी व भिलाई में दूसरे राज्यों से रजिस्टर्ड खिलाड़ियों के खेलने की शिकायत मिली थी। इस पर उक्त खिलाड़ियों की सूची समेत संबंधित जिला इकाइयों को टूर्नामेंट में नहीं खिलाने का निर्देश दे दिया गया था। सेमीफाइनल तक सभी जिला इकाइयों ने इसका पालन भी किया, लेकिन फाइनल में जानबूझकर बीएसपी टीम मध्यप्रदेश से रजिस्टर्ड खिलाड़ी मोहतसीम हसन को खिलाने पर अड़ गई। इस कारण मैच को वाकओवर करना पड़ा।
हमें मैच खेलने नहीं दिया : हसन
इस मामले में बीएसपी के डीजीएम (स्पोर्ट्स) मेहमूद हसन ने 'नईदुनिया" से चर्चा करते हुए कहा कि बीएसपी की टीम मैच खेलने के लिए तैयार थी, लेकिन नियमों का हवाला देते हुए हमारी टीम को मैच खेलने ही नहीं दिया गया और भिलाई को वाकओवर देकर विजेता घोषित कर दिया गया। श्री हसन ने कहा कि टूर्नामेंट के दौरान प्रदेश क्रिकेट संघ का रवैया पूरी तरह भेदभावपूर्ण रहा। बीएसपी की टीम ने प्रदेश संघ के निर्देश का पूरी तरह पालन किया और दूसरे राज्य से रजिस्टर्ड अपने दो खिलाड़ी को सेमीफाइनल मैच नहीं खिलाया, लेकिन भिलाई व बिलासपुर ने नियमों का उल्लंघन करते हुए दूसरे राज्यों के रजिस्टर्ड खिलाड़ियों को मैच खिलाया। नियम सभी के लिए एकसमान होना चाहिए। हमने इसका विरोध किया तो टीम को मैदान पर उतरने ही नहीं दिया गया।
क्या है नियम
संघ के सचिव श्री दवे के मुताबिक बीसीसीआई के नियमानुसार किसी एक कैलेंडर वर्ष में जो खिलाड़ी जिस राज्य से रजिस्टर्ड है, वह सिर्फ उसी राज्य से ही खेल सकता है। वह बोर्ड के कोई भी टूर्नामेंट में दूसरे राज्यों से नहीं खेल सकता।

सॉफ्टबाल खिलाड़ियों को दिए जाएंगे आईडी कार्ड

 
0 सॉफ्टबाल संघ की वार्षिक बैठक में लिए गए कई निर्णय 
रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश सॉफ्टबाल स्पोर्ट्स एसोसिएशन की वार्षिक आमसभा में निर्णय लिया गया कि राज्य के सभी सॉफ्टबाल खिलाड़ियों का पंजीयन कर उन्हें पहचान पत्र आबंटित किया जाएगा। डीडीनगर पासपोर्ट ऑफिस स्थित रायपुर हाइट्स में रविवार को हुई संघ की वार्षिक बैठक और कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। इसमें रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, कांकेर, दंतेवाड़ा, धमतरी और जांजगीर चांपा के जिला सचिव व संस्थापक सदस्य शामिल हुए। 
बैठक की अध्यक्षता संघ के अध्यक्ष एसपी डोनगांवकर ने की। बैठक की शुरुआत में संघ की सचिव संजना राज ने वर्ष 2011-12 की गतिविधियों व उपलब्धियों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस साल सीनियर वर्ग की एक महिला खिलाड़ी ने एशियन चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व किया एवं जूनियर व सीनियर वर्ग के तीन-तीन खिलाड़ी वर्तमान में इंडिया कैंप के लिए चयनित हुए हैं। बैठक में वर्ष 2010-11 की आडिट रिपोर्ट का अनुमोदन किया गया। सर्वसम्मति से रेफरी बोर्ड एवं सलेक्शन बोर्ड का गठन किया गया। दोनों बोर्ड के अध्यक्ष क्रमश: जांजगीर-चांपा के मृत्युंजय शर्मा एवं बिलासपुर के सुशील मिश्रा बनाए गए हैं। आगामी सत्र में रेफरी क्लिनिक का 10 दिवसीय आयोजन करने तथा एनआईएस सर्टीफिकेट कोर्स के लिए राज्य के प्रशिक्षकों को पटियाला भेजे जाने का निर्णय लिया गया। 
वर्ष 2011-12 में आयोजित राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में राज्य की टीम भेजने की कार्यवाही का अनुमोदन किया गया तथा आगामी बैठक में इसकी आडिट रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए संघ की सचिव संजना राज को अधिकृत किया गया। अंत में संघ के उपाध्यक्ष सुशील मिश्रा ने आभार व्यक्त किया। बैठक में संघ के महासचिव ओपी शर्मा, टी. निंगराज रेड्डी, विवेक साहू, सुधा कुमार, रजनीश ओसवाल समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे। 
दुर्ग जिले को सीनियर की मेजबानी
वर्ष 2012-13 में राज्य स्तरीय प्रतियोगिताएं आयोजित करने के लिए दुर्ग जिले को सीनियर महिला वर्ग, बिलासपुर को जूनियर बालक एवं बालिका तथा रायगढ़ को सब-जूनियर वर्ग आबंटित किया गया। साथ ही संघ की कार्यकारिणी में बिलासपुर के हेमंत परिहार एवं अजय त्रिवेदी को शामिल करने सहमति प्रदान की गई।

बीसीसीआई करेगा छत्तीसगढ़ में गेंदबाजों की खोज

0 ट्रायल लेने आएंगे पूर्व क्रिकेट व एनसीए के डायरेक्टर संदीप पाटिल
0 अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में 28 व 29 फरवरी को होगा ट्रायल
रायपुर। बीसीसीआई देशभर में स्पिनर व तेज गेंदबाजों की खोज करने के लिए रॉ-टैलेंट अभियान चला रहा है। इसके तहत बोर्ड छत्तीसगढ़ में भी गेंदबाजों की खोज करेगा। इसके लिए पूर्व टेस्ट क्रिकेटर व नेशनल क्रिकेट अकादमी (एनसीए) डायरेक्टर संदीप पाटिल रायपुर आएंॅगे। चयन ट्रायल 28 व 29 फरवरी को परसदा स्थित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में सुबह 9 से शाम 5 बजे तक होगा। 
 छत्तीसगढ़ स्टेट क्रिकेट संघ के अध्यक्ष बलदेव सिंह भाटिया ने बताया कि श्री पाटिल के साथ बीसीसीआई अकादमी मोहाली के हेड कोच कर्सन गावरी, कोच योगिंदर पुरी व एनसीए के हेड एडमिनिस्ट्रेशन एके झा भी रायपुर आएंॅगे। श्री भाटिया ने कहा कि छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों को अपना टैलेंट दिखाने का यह स्वर्णिम अवसर मिला है, इसलिए ग्रामीण इलाके तक इसका प्रचार किया जाएगा, ताकि प्रदेश के गांॅव-गांॅव के प्रतिभावान खिलाड़ी अधिक से अधिक संख्या में इस ट्रायल में हिस्सा ले सके। 
एनसीए में होगी विशेष ट्रेनिंग
श्री भाटिया ने बताया कि बोर्ड ने चार राज्यों छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश, झारखंड व जम्मू-कश्मीर में चयन ट्रायल का आयोजन किया है। छत्तीसगढ़ में होने वाले ट्रायल में सिर्फ प्रदेश के ही खिलाड़ी हिस्सा लेंगे। ट्रायल में चुने गए गेंदबाजों को एनसीए बेंगलुरू में विशेष ट्रेनिंग दी जाएगी। ट्रेनिंग के दौरान खिलाड़ियों को उचित प्लेटफार्म व एक्सपोजर दिया जाएगा।  
सिर्फ फ्रेश खिलाड़ी ही हिस्सा लेंगे
श्री भाटिया ने बताया कि इसका उद्देश्य ऐसे प्रतिभावान खिलाड़ियों की खोज करना है, जिसे अब तक उचित प्लेटफार्म व एक्सपोजर नहीं मिल पाया हो, इसलिए इसमें सिर्फ वे खिलाड़ी ही शामिल होंगे, जो अब तक बीसीसीआई की कोई भी ट्राफी या टूर्नामेंट में हिस्सा न लिया हो। ट्रायल सिर्फ स्पिनर व तेज गेंदबाजों के लिए होगा। इसमें 17 से 22 वर्ष तक के खिलाड़ी ही हिस्सा ले सकते हैं, जिनका जन्म 1 सितंबर, 1989 से 1 सितंबर तक 1994 के बीच हुआ हो। ट्रायल में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों को अपने साथ एक पासपोर्ट फोटो और जन्म प्रमाणपत्र की मूल प्रति व छायाप्रति के साथ सुबह 8.30 बजे तक अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में उपस्थित होना है। 
घोषणा पर अमल 
हाल ही में यहांॅ हुई बीसीसीआई अंडर-19 व 16 एसोसिएट ट्राफी में छत्तीसगढ़ की टीम चैंपियन बनी थी। इसके समापन समारोह में शामिल होने आए बोर्ड के सचिव संजय जगदाले व मुख्य प्रशासनिक अधिकारी रत्नाकर शेट्टी ने आने वाले समय में रायपुर में घरेलू टूर्नामेंटों के मैच कराए जाने की घोषणा की थी। बीसीसीआई के दोनों पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से भी मुलाकात थी। इस दौरान मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा था कि छत्तीसगढ़ के आदिवासी इलाके में प्रतिभावान खिलाड़ी हैं। यदि उन्हें तराशा जाए तो वे राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं। दोनों पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री डॉ. सिंह को बोर्ड की ऐसी प्रतिभा खोज योजना को अमल करने की जानकारी दी थी।

भारतीय टीम ने जीते नौ मेडल

 
0 थाईलैंड के पट्टाया में हुई एशियन ड्रैगन बोट चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन
0 भारतीय टीम ने जीते छह रजत व तीन कांस्य समेत नौ पदक
0 सभी इवेंट में छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी शामिल 
रायपुर। थाईलैंड के पट्टाया में हुई एशियन ड्रैगन बोट चैंपियनशिप में छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों ने भारतीय टीम के साथ शानदार प्रदर्शन करते हुए छह रजत व तीन कांस्य समेत कुल नौ पदक जीते। भारतीय टीम ने कुल 13 इवेंट में से नौ में पदक जीतकर इस चैंपियनशिप में ताइपे के साथ संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर रहे। टीम के कोच छत्तीसगढ़ के अंतरराष्ट्रीय कयाक खिलाड़ी नवीन साहू थे। 
 मेडल जीतकर रायपुर लौटने के बाद नवीन ने बताया कि भारतीय टीम में छत्तीसगढ़ के दो पुरुष व दो महिला खिलाड़ी प्रमोद फरिकार, धनेश्वर फरिकार, शिवांगी ठाकुर व कौशल नंदिनी ठाकुर शामिल थीं। भारतीय टीम को 10 पेडलर मिक्स के 500 मी. में रजत पदक मिला। टीम में प्रमोद फरिकार शामिल थे। इसी तरह 10 पेडलर महिला 2000 मीटर में रजत पदक मिला। टीम में प्रदेश की कौशल नंदिनी व शिवांगी ठाकुर शामिल थीं। 10 पेडलर मिक्स 2000 मी. में भी रजत पदक हासिल हुआ। इसमें प्रमोद फरिकार शामिल थे। 10 पेडलर मिक्स 200 मी. भी प्रमोद ने रजत पदक पर कब्जा जमाया। मलेशिया व भारतीय टीम ने संयुक्त रूप से 20 पेडलर पुरुष के 200 मी. में रजत पदक जीता। टीम का प्रतिनिधित्व प्रदेश के प्रमोद, धनेश्वर फरिकार व शिवांगी ठाकुर ने किया। इसी तरह पांच पेडलर मिक्स के 200 मी. में प्रदेश के धनेश्वर फरिकार ने रजत जीता। 
10 पेडलर महिला 500 मी. में शिवांगी व कौशल नंदिनी ठाकुर ने कांस्य पदक जीता। इसी तरह 10 पेडलर पुरुष 2000 मी. में भी कांस्य पदक मिला। टीम में प्रमोद व धनेश्वर फरिकार शामिल थे। 10 पेडलर महिला वर्ग के 200 मी. में भारत में कांस्य पदक पर कब्जा किया। टीम में प्रदेश की कौशल नंदिनी व शिवांगी ठाकुर शामिल थीं। 
टीम की जीत पर कोच नवीन साहू ने कहा कि भारत ने इसमें पहली बार हिस्सा लिया और शानदार प्रदर्शन किया। इसके बाद टीम इटली में होने वाली वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेगी। उन्होंने कहा कि भारतीय टीम अभी कयाकिंग के लंदन ओलिंपिक क्वालीफाइंग मुकाबले की तैयारी में जुटी हुई है।

बास्केटबाल इंडिया कैंप में छग के नौ खिलाड़ी

0 नई दिल्ली में 1 मार्च तक लगेगा
 
रायपुर। छत्तीसगढ़ के नौ खिलाड़ियों का चयन नई दिल्ली में लगने वाले सीनियर वर्ग के बास्केटबाल इंडिया कैंप में हुआ है। चयनित खिलाड़ी 11 फरवरी से 1 मार्च तक नई दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में लगने वाले प्रशिक्षण शिविर में हिस्सा लेंगे। 
छत्तीसगढ़ प्रदेश बास्केटबाल संघ के अध्यक्ष राजीव जैन ने बताया कि चयनित टीम में सात महिला खिलाड़ी अंजु लकड़ा, एम. पुष्पा, भारती नेताम, अरुणा किंडो, कविता, आकांक्षा सिंह, एल. दीपा तथा दो पुरुष खिलाड़ी किरणपाल सिंह एवं अजय प्रताप सिंह शामिल हैं। सभी खिलाड़ी पहले चरण के भारतीय प्रशिक्षण शिविर में शामिल होंगे। सभी खिलाड़ियों का चयन इस साल चेन्नाई में हुई 62वीं राष्ट्रीय सीनियर नेशनल बास्केटबाल चैंपियनशिप में प्रदर्शन के आधार पर हुआ। अरुणा किंडो, एल. दीपा, आकाक्षा सिंह, कविता एवं किरणपाल सिंह व अजय प्रताप सिंह ने छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व किया है। अंजु लकड़ा, एम. पुष्पा व  भारती नेताम ने भारतीय रेलवे का प्रतिनिधित्व करते हुए शिविर में जगह बनाई। एम. पुष्पा, भारती नेताम, किरणपाल सिंह तीनांे ने एशियन गेम्स में खेल चुके हैं। अंजु लकड़ा ने सात बार भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया है। आकांक्षा सिंह भी तीन बार भारतीय जूनियर टीम का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। कविता चार बार भारतीय यूथ एवं जूनियर महिला टीम के इंडिया कैंप मंे हिस्सा ले चुकी हैं। अरुणा किंडो ने पांच बार  भारतीय यूथ एवं जूनियर महिला टीम का नेतृत्व एवं प्रतिनिधित्व किया है। अजयप्रताप सिंह चार बार भारतीय जूनियर, यूथ एवं सिनियर टीम का प्रतिनिधित्व चुके हैं। श्री जैन ने बताया कि खिलाड़ियों ने यह उपलब्धि बीएसपी दी जा रही सुविधाओं व अंतराष्ट्रीय कोच राजेश पटेल के कुशल प्रशिक्षण से मिली है। सहायक कोच बीएसपी के सरजीत चक्रवर्ती, इकबाल अहमद खान, एमवीवीजे सूर्यप्रकाश तथा रेलवे के प्रीतम दास हंै। इस तरह किरणपाल सिंह व अजयप्रताप सिंह के मुख्य कोच बीएसपी के आरएस गौरव  सहायक कोच एस. दुर्गेश राजू हैं।
छ.ग. एवं भिलाई इस्पात संयंत्र के इस उपलब्धि पर सोनमोनी बोरा, आईएएस (चेयरमेन, छ.ग. बास्केबाल संघ), राजकुमार देवांगन (स्ंाचालक, छ.ग. खेल एवं युवा कल्याण विभाग), पंकज गौतम(सी.ई.ओ., भिलाई इस्पात संयंत्र), अरविंद जैन(प्रबंध निदेषक भिलाई इंजीनीयरिग कारपारेषन भिलाई), विक्रम सिसोदिया (अध्यक्ष, छ.ग. टेनिस संघ), राजीव जैन (छ.ग. प्रदेष बास्केटबाल संघ), आर के षर्मा(महाप्रबंधक, कार्मीक बीएसपी), जी सुरेष(अध्यक्ष, छ.ग. आर्म रेसलिंग संघ), अष्विनी महेन्द्रु(अध्यक्ष छ.ग. जीमनास्टीक संघ),गोपाल खंडेलवाल (अध्यक्ष छ.ग. तैराकी संघ), माधुरी मेनन(महाप्रबंधक, मेनेजमेंट सर्वीसेस, बीएसपी), नरेष डाकलिया (कार्यकारी अध्यक्ष छ.ग. प्रदेष बास्केटबाल संघ एवं महापौर राजनांदगाव नगर निगम), एस. आर. ए. रिजवी (अध्यक्ष बीएसपी बास्केटबाल कलब एवं उपमहाप्रबंधक प्रभारी नगर सुविधाए बीएसपी), नवीन सिंह एवं श्रीमती रुपा जैन (दोनो संरक्षक, छ.ग. बास्केटबाल संघ), ए. के. कयाल (उपमहाप्रबंधक, कार्मीक बीएसपी),मेहमुद हसन (उप महाप्रबंधक, खेल संास्कृतीक एवं नागरीक सुवीधाए विभाग, बीएसपी), राजेन्द्र प्रसाद (अध्यक्ष छ.ग. बॉक्सींग संघ), बषीर अहमद खान ु(सचिव, छग. हेन्डवाल संघ), बृजमोहन सिह, अजय प्रताप सिंह, अनिल पुसदकर(सभी वरिश्ठ उपाध्यक्ष छ.ग. बास्केटबाल संघ), कुमार योेगेष, विनोद नेमी, एससी त्रिपाठी, श्रीमति मधु तिवारी, निलांजल नियोगी(सभी उपाध्यक्ष छ.ग. बास्केटबाल संघ), दिनेष षर्मा, राजेन्द्र तंबोली, प्रमोद सिंह ठाकुर, संस्कार द्विवेदी, विजय देषपाण्डे(सभी सहसचिव, छ.ग. बास्केटबाल संघ), साहीराम जाखड़ (सचिव, छ.ग. तैराकी संघ), मो. अकरम खान (सचिव, छ.ग. बॉलीवाल संघ),वाई राजराव (सचिव, छ.ग. बालबैडमिंटन संघ), अरुण द्विवेदी(सचिव, छ.ग. जुडो संघ), साजी टी. थॉमस  आदि ने बहुत बहुत बधाई दी है।
 -------------------------------------

Monday 6 February 2012

भारत ने जीता फाइट नाइट मुकाबला

0 रोमांचक मुकाबले में रूस को 4-1 हराकर ट्राफी जीती
0 भारतीय मुक्कों से पस्त हुए रूसी बाक्सर
0 पांच वजन वर्गों में हुए मुकाबले 


विजेता भारतीय बोक्सिंग टीम को ट्राफी प्रदान करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमण सिंह.
रायपुर। भारतीय बॉक्सरों ने रविवार को यहां हुए मोनेट फाइट नाइट मुकाबले में शानदार प्रदर्शन करते हुए रूसी बॉक्सरों को ढेर कर दिया। भारत ने रोमांचक मुकाबले में रूस को 4-1 से हराकर ट्राफी जीत ली। मुकाबले पांच वजन वर्गों में हुए। 
वीआईपी रोड स्थित होटल में पहला मुकाबला 56 किग्रा फैंटम कैटेगरी में भारत के शिव थापा और रूस के अलीखान अवतारखानोव के बीच हुआ। तीन राउंड तक चले रोमांचक मुकाबले में शिव थापा ने अली खान को 14-11 से हराया। शिव ने पहले दो राउंड 4-5 व 8-9 से पिछड़ने के बाद जबरदस्त वापसी की और तीसरे व अंतिम राउंड को 14-11 से जीत लिया। मैच रेफरी आर. राजेंद्रन थे। 

मनोज कुमार (दायें ) रशियन बोक्स़र को पञ्च लगते हुए. 
दूसरा मुकाबला 64 किग्रा में भारत के स्टार बॉक्सर मनोज कुमार और रूस के रोमन उसीकोव के बीच हुआ। यह मुकाबला पूरी तरह एकतरफा रहा और मनोज ने यह मैच 5-1, 8-2, 14-4 से जीत लिया। मैच रेफरी आर. नायक थीं। मनोज भारत की ओर से अपने वर्ग में लंदन ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके हैं। मैच जीतने के बाद मनोज रिंग से उतरकर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से भी मिले। डॉ. सिंह ने उनकी जीत व लंदन ओलिंपिक के लिए अपनी शुभकामना दी। 
तीसरा मुकाबला 75 किग्रा में भारत के कुलदीप सिंह और रूस के लेव चेरेव्को के बीच हुआ। इस मैच में भारतीय खिलाड़ी को निराश होना पड़ा। मुकाबला रोमांचक रहा, लेकिन रूसी खिलाड़ी कुलदीप पर भारी पड़े। इस तरह लेव ने यह मैच 6-4, 12-9, 17-14 से जीत लिया। मैच रेफरी राजेश नायक थे। 
चौथा मुकाबला 91 किग्रा में भारतीय टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह और रूस के दिमित्री जायत्सेव के बीच हुआ। यह मुकाबला भी एकतरफा रहा और इसे मनप्रीत ने 5-3, 15-4, 20-7 से जीत लिया। मैच रेफरी प्रदीप बैस थे। 
पांचवां व अंतिम मुकाबला 91 किग्रा से ऊपर (सुपर हैवीवेट) वर्ग में भारत के परमजीत सिंह समोटा और इराक्ली शरवाशिद्जे के बीच खेला गया। यह मुकाबला बेहद रोमांचक रहा और दोनों बॉक्सरों के बीच कांटे का मुकाबला हुआ। मनप्रीत ने पहला राउंड 5-4 से जीता। दूसरे राउंड में दोनों बाक्सर 10-10 की बराबरी पर रहे। तीसरा व अंतिम राउंड में दोनों बॉक्सरों ने एक-दूसरे पर खूब प्रहार किए, लेकिन मनप्रीत रूसी खिलाड़ी पर भारी पड़े और 18-17 से यह मैच जीत लिया। इस तरह भारतीय टीम ने 4-1 से ट्राफी जीत ली। इसके पूर्व मैच का शुभारंभ दोनों देशों के राष्ट्रीय गान से हुआ। साथ ही दोनों टीमों ने मार्चपास्ट भी किया। 



मुख्यमंत्री ने बांटे पुरस्कार 



मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने विजेता भारतीय टीम को ट्राफी प्रदान की। साथ ही दोनों टीमों के प्रत्येक खिलाड़ी व कोच को मोनेट ग्रुप की ओर से 700-700 डॉलर का पुरस्कार प्रदान किया गया। 


देश के लिए मेडल जीतें बॉक्सर : डॉ. रमन

 
समापन व पुरस्कार वितरण समारोह में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि भारतीय बॉक्सरों ने यहां शानदार प्रदर्शन किया और जीत हासिल की। इसी तरह लंदन ओलिंपिक में क्वालीफाई करने वाले बॉक्सर हिंदुस्तान के लिए मेडल जीतकर लाएं। यह बहुत अच्छा आयोजन रहा। छत्तीसगढ़ में बॉक्सिंग अकादमी बनाने का प्रस्ताव है। इससे यहां खेल वातावरण बनेगा। इस मौके पर मोनेट ग्रुप के एमडी संदीप जाजोदिया ने कहा कि हमारी कंपनी पावर व एनर्जी के क्षेत्र में काम करती है और बॉक्सिंग में खिलाड़ी को पावर व एनर्जी की जरूरत होती है। एक तरह से कंपनी व बाक्सिंग में एकरूपता है, इसलिए इसे गोद लिया है। कंपनी का उद्देश्य बॉक्सिंग को देश में क्रिकेट की तरह लोकप्रिय खेल बनाना है और इस दिशा में हम आगे बढ़ रहे हैं। इस मौके पर केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री डॉ. चरणदास महंत, लोक निर्माण मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, आरडीए अध्यक्ष सुनील सोनी, पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा समेत प्रदेश बॉक्सिंग संघ समेत अन्य खेल संघों के पदाधिकारी व दर्शक मौजूद थे।


बालीवुंड सिंगर व चीयर लीडर्स ने बढ़ाया रोमांच
 मैच के दौरान बीच-बीच में बालीवुड सिंगर हर्षी अपनी टीम के साथ फिल्मी गीतों पर प्रस्तुति देकर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। वहीं रूसी चीयर लीडर्स ने भी मैच के दौरान अपनी प्रस्तुति से दर्शकों को खूब रोमांचित किया। 


















बॉक्सिंग में भारत की तैयारी अच्छी : संधु

भारतीय बोक्सिंग टीम के खिलाड़ी कोच गुरुबख्श सिंह संधू के साथ. 


0 भारतीय बॉक्सिंग टीम के मुख्य कोच गुरुबख्श सिंह संधु ने कहा, बॉक्सिंग अनिश्चितता का खेल है, दावे करना मुश्किल
0 फिर भी ओलिंपिक में पदक की उम्मीद

रायपुर। भारतीय बाक्सिंग टीम के मुख्य कोच गुरुबख्श सिंह संधु का कहना है कि लंदन ओलिंपिक के लिए भारत की तैयारी अच्छी चल रही है। अब तक चार बॉक्सर ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके हैं और अभी छह वर्गों के क्वालीफायर मुकाबले में हिस्सा लेना है। इसमें भी भारतीय खिलाड़ियों के क्वालीफाई करने की उम्मीद है। 
रायपुर में पत्रकारों को संबोधित करते गुरुबख्श सिंह संधू. 
रायपुर में 5 फरवरी को भारत और रूस के खिलाड़ियों के बीच होने वाले 'मोनेट बॉक्सिंग फाइट नाइट" मुकाबले में भारतीय टीम के साथ हिस्सा लेने आए श्री संधु ने कहा कि बॉक्सिंग अनिश्चितता का खेल है। इसमें कुछ भी दावे करना मुश्किल होता है। फिर भी तैयारी के हिसाब से लंदन ओलिंपिक में पदक की उम्मीद कर सकते हैं। लंदन ओलिंपिक के पहले भारतीय टीम जर्मनी, चेक रिपब्लिक, कजाखस्तान व थाईलैंड का दौरा करेगी। भारतीय खिलाड़ी 5 से 12 अप्रैल तक कजाखस्तान के अस्ताना में होने वाले ओलिंपिक क्वालीफायर मुकाबले में हिस्सा लेंगे। साथ ही डोमेस्टिक टूर्नामेंट में भी शामिल होंगे। भारतीय टीम जुलाई में आयरलैंड दौरे पर जाएगी, वहां भी खिलाड़ियों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। वहीं से खिलाड़ी ओलिंपिक में हिस्सा लेने लंदन चले जाएंगे। 

मेडल का रंग बदलने व संख्या बढ़ाने का लक्ष्य 
लंदन ओलिंपिक में पदक जीतने के बारे में पूछने पर श्री संधु ने कहा कि ओलिंपिक में बेहद टफ मुकाबला होगा। इसके बावजूद बीजिंग ओलिंपिक में मिले मेडल का रंग बदलने व पदकों की संख्या बढ़ाने का लक्ष्य रहेगा। पटियाला साई सेंटर में सभी क्वालीफाई करने वाले खिलाड़ियों व क्वालीफायर मुकाबले में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों के लिए विशेष प्रशिक्षण चल रहा है। खिलाड़ियों को उनके अलावा क्यूबा के कोच बीआई फर्नांडीज द्वारा प्रशिक्षण दिया जा रहा है।  

बॉक्सिंग की लोकप्रियता में मीडिया का हाथ
श्री संधु ने कहा कि देश में बॉक्सिंग को लोकप्रिय बनाने में मीडिया का महत्वपूर्ण हाथ है। मीडिया के प्रोत्साहन की बदौलत ही आज बॉक्सिंग में पदक जीत रहे हैं। 1980 में जब भारतीय टीम 10 अंतरराष्ट्रीय पदक लौटने के बाद भी निगेटिव कवरेज मिला, लेकिन अब ऐसा नहीं है।  

छत्तीसगढ़ में अकादमी खुलने से निकलेंगे बॉक्सर
श्री संधु ने कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। रायपुर में मोनेट ग्रुप द्वारा बॉक्सिंग अकादमी खोलने का प्रस्ताव है। इसके खुलने से यहां से कई बॉक्सर निकलेंगे। उन्होंने कहा कि राजेंद्र प्रसाद जैसे प्रतिभावान बॉक्सर ओलिंपियन यहॉं से निकले हैं। 

कुछ भी कहना मुश्किल : मनोज कुमार
लंदन ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके अंतरराष्ट्रीय बॉक्सर मनोज कुमार ने कहा कि ओलिंपिक में पदक जीतने के बारे में कुछ भी कहना अभी बेहद मुश्किल है। यह एक तरह से कुएं से पानी निकालने जैसा है। पटियाला में इसकी अच्छी तैयारी चल रही है। 
 
भारतीय टीम : मनोज कुमार, परमजीत सिंह समोटा, कुलदीप सिंह, मनप्रीत सिंह, रामानंद व शिव थापा शामिल हैं। कोच गुरुबख्श सिंह संधु। 
रूसी टीम : अलीखान अवतारखानोव, हसीकोव रोमन, चेरेवकोव लेव, जेयत्सेव दिमित्री व शारवाशिद्जे इराक्लीय शामिल हैं। 

छत्तीसगढ़ के चार खिलाड़ी भारतीय कयाक टीम में

0 एशियन ड्रैगन बोट चैंपियनशिप में हिस्सा लेने थाईलैंड रवाना
0 प्रदेश के नवीन साहू टीम के कोच बनाए गए
मुंबई में भारतीय टीम को प्रशिक्षण देते नवीन साहू. 

रायपुर। छत्तीसगढ़ के चार कयाक खिलाड़ियों का चयन भारतीय कयाकिंग टीम में हुआ है। चारों खिलाड़ी थाईलैंड के पट्टाया में 5 से 8 फरवरी तक होने वाली एशियन ड्रैगन बोट चैंपियनशिप में हिस्सा लेंगे। प्रदेश के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी नवीन साहू को भारतीय टीम के कोच बनाए गए हैं। चारों खिलाड़ी व कोच थाईलैंड रवाना हो गए हैं। 
नवीन साहू. 
19 सदस्यीय भारतीय पुरुष टीम में छत्तीसगढ़ के दो खिलाड़ी प्रमोद फरिकार व धनेश्वर फरिकार का चयन हुआ है। इसी तरह 15 सदस्यीय भारतीय महिला टीम में प्रदेश की शिवांगी ठाकुर व कौशल नंदिनी शामिल हैं। चारों खिलाड़ियों का चयन मुंबई में हुई नेशनल ड्रैगन बोट चैंपियनशिप में प्रदर्शन के आधार पर हुआ है। इसमें चारों खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया था। इसी तरह प्रदेश कयाकिंग टीम के कोच व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी नवीन साहू को भारतीय महिला व पुरुष दोनों टीमों के कोच बनाए गए हैं। भारतीय टीम को कोच बनाए जाने पर नवीन ने कहा कि यह उनके लिए खुशी की बात है कि भारतीय महासंघ ने उन पर भरोसा किया। एशियन चैंपियनशिप में भारत को कयाकिंग का पहला स्वर्ण पदक दिलाने वाले नवीन ने कहा कि यह उनके लिए खुशी की बात है। भारतीय टीम की प्रैक्टिस अच्छी है। टीम के पदक जीतने की उम्मीद है। 

छत्तीसगढ़ को रवि सोनी ने दिलाया स्वर्ण

0 41वीं नेशनल कैरम चैंपियनशिप में राज्य निर्माण के बाद पहला पदक
0 पुरुष एकल में योगेश और महिला में रश्मि बनीं चैंपियन
वेटरन वर्ग के पुरुष वर्ग में छत्तीसगढ़ के रवि सोनी लोक निर्माण मंत्री बृजमोहन अग्रवाल से ट्राफी ग्रहण करते हुए. 
रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कैरम एसोसिएशन की मेजबानी में खेली जा रही 41वीं सीनियर नेशनल कैरम चैंपियनशिप के छठे और अंतिम दिन वेटरन पुरुष वर्ग में छत्तीसगढ़ के रवि सोनी ने स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया। राज्य निर्माण के बाद राष्ट्रीय स्तर पर कैरम में यह पहला पदक है।
वेटरन महिला वर्ग की विजेता महाराष्ट्र की शोभा कामथ. 

रवि ने फाइनल मुकाबले में एयर इंडिया के बीएल जिटे  को 25-13, 24-20 से पराजित कर खिताब हासिल किया। छत्तीसगढ़ को पहली बार सीनियर नेशनल कैरम चैंपियनशिप में पदक मिला है। इसके पूर्व रवि सोनी ने एयर इंडिया के के. पंचोली को 25-4, 23-7 से पराजित कर सेमीफाइनल में प्रवेश  किया। सेमीफाइनल में रवि सोनी का मुकाबला कर्नाटक के सी. श्रीनिवास के साथ हुआ। रोमांचक और संघर्षपूर्ण मैच में रवि सोनी ने 25-19, 13-22, 23-12 से जीत हासिल कर फाइनल में प्रवेश किया। 
वेटरन महिला वर्ग में प्रदेश की प्रभा नायडू ने क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया था, लेकिन वे आगे का सफर तय नहीं कर सकीं। क्वार्टर फाइनल में प्रभा नायडू महाराष्ट्र की ज्योति से 13-16, 6-19 से पराजित हो गईं। महिला वेटरन में महाराष्ट्र की शोभा कामथ ने महाराष्ट्र की ही ज्योति कटडरे को 25-0, 25-2 से पराजित कर खिताब हासिल किया।
पुरुष एकल में शीर्ष वरीयता प्राप्त खिलाड़ी पीएसपीबी के योगेश परदेशी ने मणिपुर के मधुप सिंग को 25-0, 25-8 से पराजित कर खिताब जीत लिया। महिला एकल के फाइनल में शीर्ष वरीयता प्राप्त खिलाड़ी पीएसपीबी की रश्मि कुमारी ने अपने ही संस्थान की एम.प्रमिला देवी को 25-6, 25-4 से हराकर खिताब जीता। 

परिणाम एक नजर
पुरुष वर्ग 
क्र. खिलाड़ी पदक संस्थान
1. योगेश परदेशी विजेता पीएसपीबी
2. मधुप सिंह उपविजेता मणिपुर

पुरुष वेटरन वर्ग

1. रवि सोनी विजेता छत्तीसगढ़
2. वीएल जिटे उपविजेता      एयर इंडिया
महिला वर्ग 
1. रश्मि कुमारी विजेता पीएसपीबी
2. ए. प्रमिला देवी उपविजेता पीएसपीबी

वेटरन महिला वर्ग
1. शोभा कामत विजेता महाराष्ट्र
2. ज्योति कटडरे उपविजेता                   महाराष्ट्र

टीम चैंपियनशिप

पुरुष वर्ग
1.तमिलनाडु
2. विदर्भ
3. हैदराबाद
4. उत्तरप्रदेश

महिला वर्ग
1. तमिलनाडु
2. महाराष्ट्र
3. बिहार
4. हैदराबाद

संस्थान पुरुष वर्ग
1. सीसीएससीएसबी
2. एलआईसी
3. पीएसपीबी
4. एयर इंडिया

संस्थान महिला वर्ग 
1. एलआईसी
2. पीएसपीबी
3. आरबीआई
4. बीएसएनएल

नेशनल की टॉप-8 रैंकिंग
पुरुष एकल
क्र. खिलाड़ी राज्य/संस्थान
1. योगेश परदेशी पीएसपीबी
2. एम. मधुप सिंग मणिपुर
3. के. श्रीनिवास पीएसपीबी
4. फैय्याज शेख महाराष्ट्र
5. टीजे थांगा तमिलनाडु
6. प्रशांत मोरे बीओआई
7. के. प्रेमकुमार उत्तराखंड
8. एस. नागोनकर बीओआई

महिला एकल
1. रश्मि कुमारी पीएसपीबी
2. पी. प्रमिला देवी पीएसपीबी
3. आई. इला वेजाकी पीएसपीबी
4. कविता सोमांची आरबीआई
5. पी. निर्मला एलआईसी
6. एस. चंदोरकर आरबीआई
7. खुशबू पीएसपीबी
8. आयशा मोहम्मद महाराष्ट्र

वेटरन महिला
1. शोभा कामथ महाराष्ट्र
2. ज्योति कटडरे महाराष्ट्र
3. राजलक्ष्मी आरबीआई
4. अंजली दास असम
5. एमडी मालिनी कर्नाटक
6. प्रभा नायडू छत्तीसगढ़
7. रत्ना माला आरबीआई
8. आरके कोशी छत्तीसगढ़

वेटरन पुरुष
1. रवि सोनी छत्तीसगढ़
2. वीएल जिटे एयर इंडिया
3. बाबूलाल श्रीमाल महाराष्ट्र
4. सी.श्रीनिवास कर्नाटक
5. प्रकाश काम्बले महाराष्ट्र
6. निसार अहमद                कर्नाटक
7. गणेश भट्टाम मध्यप्रदेश
8. के. पंचोली एयर इंडिया
---------------------------------

रायपुर लकी रहा : रश्मि
महिला वर्ग की विजेता पीएसपीबी की रश्मि कुमारी. 
0 महिला वर्ग की नेशनल चैंपियन ने कहा, उम्मीद के अनुरूप रहा प्रदर्शन
रायपुर । महिला वर्ग का खिताब जीतने वाली पीएसपीबी की रश्मि कुमारी ने फाइनल जीतने के बाद कहा कि रायपुर उनके लिए हमेशा ही लकी स्थान साबित हुआ है। अब तक वे पांच नेशनल खिताब जीत चुकी हैं, उनमें से वे चार बार रायपुर में चैंपियन बनीं। 
रश्मि ने कहा कि स्पर्धा में उन्होंने उम्मीद के अनुरूप प्रदर्शन किया, लेकिन फाइनल में उनके ही संस्थान की प्रमिला देवी और सेमीफाइनल में इला से काफी चुनौती मिली। उन्होंने कहा कि बीएसएनल की गीता देवी के साथ खेला गया मैच उनके लिए बेहद इंट्रेस्टिंग रहा। इससे पहले वे 2002 में फेडरेशन कप में हिस्सा लेने पहली बार रायपुर आई थीं और उसमें वे विजेता रहीं। फिर 2007 में इंटर जोनल व एशियन चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के लिए रायपुर आई और दोनों में ही चैंपियन बनीं। वर्ष 2000 में लंदन में वर्ल्ड चैंपियन का खिताब जीतने वाली खिलाड़ी ने कहा कि हमेशा ही रायपुर में होने वाले आयोजनों में खिलाड़ियों के लिए बेहतर सुविधाएं मुहैया कराई जाती हैं। यह आयोजन भी बहुत ही बढ़िया रहा। 

कैरम को भी मिले तवज्जो : परदेशी
पुरुष वर्गे के विजेता पीएसपीबी के योगेश परदेशी. 
पुरुष एकल वर्ग के विजेता योगेश परदेशी ने फाइनल जीतने के बाद कहा कि यह उनकी तीसरा राष्ट्रीय खिताब है। उन्होंने कहा कि अन्य खेलों की तरह कैरम को भी तवज्जो मिलना चाहिए, जिससे कैरम खिलाड़ियों को अन्य अवार्ड व सरकारी सुविधाएं मिल सकें। 
2008 में फ्रांस में वर्ल्ड चैंपियन बनने वाले परदेशी का कहना है कि कैरम खिलाड़ी बेहद उपेक्षित हैं। उनके पास इतने सारे पदक होने के बावजूद अभी तक उन्हें कोई अवार्ड भी नहीं मिल पाया है। 1995 के बाद किसी कैरम खिलाड़ी को राष्ट्रीय स्तर का कोई अवार्ड प्राप्त नहीं हुआ है। एक अनुशासित खेल के रूप में कैरम काफी लोकप्रिय हो रहा है। इसलिए इसे शीघ्र ही नेशनल गेम्स में शामिल किया जाना चाहिए। इसके लिए भारतीय कैरम फेडरेशन महासंघ प्रयास कर रहा है। 

कैरम अकादमी खोलने का सपना : रवि
छत्तीसगढ़ को सीनियर नेशनल में पहला स्वर्ण पदक दिलाने वाले रवि सोनी का सपना राज्य में कैरम अकादमी खोलने का है। फाइनल जीतने का श्रेय रवि ने प्रदेश कैरम संघ, अपने परिजनों व शुभचिंतकों को दिया। उन्होंने कहा कि जीवन के कठिन क्षणों में सभी ने आर्थिक मदक की। इससे वे इस खेल से जुड़े रहे और इसी का परिणाम है कि वे नेशनल चैंपियनशिप में राज्य के लिए पदक हासिल करने वाले पहले खिलाड़ी बने। रवि ने अविभाजित मध्यप्रदेश में भी आल इंडिया कैरम चैंपियनशिप में हिस्सा लिया और वे ग्वालियर में स्टेट चैंपियन बने थे। वेटरन वर्ग में खिताब जीतने वाले रवि वर्तमान में युवा खिलाड़ियों को तराशने का काम कर रहे हैं। विशेष रूप से बालिका वर्ग में रवि ने राज्य को कई राष्ट्रीय खिलाड़ी दिए हैं। 
-----------------


अंतरराष्ट्रीय स्पर्धा की मेजबानी की पेशकश


0 41वीं सीनियर नेशनल कैरम चैंपियनशिप के समापन समारोह में बृजमोहन ने बांटे पुरस्कार
रायपुर। छह दिनों तक इंडोर स्टेडियम में चली 41वीं सीनियर नेशनल कैरम चैंपियनशिप का शुक्रवार को समापन हुआ। समारोह के मुख्य अतिथि लोक निर्माण मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने छत्तीसगढ़ में अंतरराष्ट्रीय कैरम चैंपियनशिप की मेजबानी की दावेदारी की है। उन्होंने कहा है कि यदि ऑल इंडिया कैरम फेडरेशन हमारी मेजबानी से संतुष्ट है तो जो भी अंतरराष्ट्रीय कैरम प्रतियोगिता फेडरेशन लेगा, उसकी मेजबानी करने के लिए छत्तीसगढ़ तैयार है।  
श्री अग्रवाल ने इस अवसर पर विजयी  खिलाड़ियों को पुरस्कार बांटे तथा उनके लिए नकद पुरस्कार की घोषणा भी की। उन्होंने पुरुष एकल वर्ग में विजेता को 31 हजार रुपए, उपविजेता को 21 हजार रुपए, तीसरे स्थान पर 11 हजार रुपए, महिला वर्ग में विजेता  को 21 हजार रुपए, उपविजेता  को 15 हजार और तीसरे स्थान पर 9 हजार रुपए नकद पुरस्कार की घोषणा की। वेटरन पुरुष में विजेता को 11 हजार और महिला वर्ग में विजेता को 5 हजार रुपए नकद पुरस्कार राशि और ट्राफी देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इतना  बड़ा आयोजन फेडरेशन के अधिकारियों के सहयोग के बगैर नहीं हो सकता। कैरम भारत का मूल खेल है और फेडरेशन जो इतने साल से इस खेल को बनाए रखा है, उसे छत्तीसगढ़ प्रदेश कैरम को और भी आगे ले जाएगा। समारोह में छत्तीसगढ़ प्रदेश कैरम एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप वर्मा ने स्वागत भाषण  में कहा कि इस चैंपियनशिप में बहुत ही बेहतर प्रदर्शन देखने को मिला। सबसे बड़ी उपलब्धि है कि रायपुर के रवि सोनी ने वेटरन में चैंपियनशिप का खिताब जीता। इस मौके पर जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रदीप टंडन, बेबीलान ग्रुप ऑफ होटल्स के मैनेजिंग डायरेक्टर परमजीत खनूजा, प्रदेश कैरम एसोसिएशन के सचिव विजय कुमार, उपाध्यक्ष सुरेश सिंग ठाकुर, गणेश सिंग ठाकुर, ऑल इंडिया कौमी एकता के दिनेश सिंग ठाकुर, उपसंचालक खेल ओपी शर्मा, प्रदेश ओलिंपिक संघ के कोषाध्यक्ष डॉ. विष्णु  श्रीवास्तव, वॉलीबाल एसोसिएशन के सचिव मोहम्मद अकरम खान  समेत ऑल इंडिया कैरम फेडरेशन के सभी पदाधिकारी और देशभर के खिलाड़ी मौजूद थे।
------------------------
थक गया हूं अवार्ड का इंतजार करते-करते : योगेश परदेशी


रायपुर। कैरम के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी और वल्र्ड चैम्पियन योगेश उदयभान परदेशी का कहना है कि वे अर्जुन अवार्ड के हकदार हैं और पिछले कई सालों से वे अवार्ड का इंतजार करते-करते थक गए हैं। पेट्रोलियम स्पोट्र्स प्रमोशन बोर्ड के इस अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी का कहना है कि क्रिकेट की तरह कैरम जैसे खेलों को भी मीडिया प्रमोट करे तो इस खेल का विकास होगा और कई प्रायोजक भी मिलेंगे।
कैरम के शीर्ष वरीय खिलाड़ी योगेश परदेशी ने विशेष मुलाकात में कहा कि 1995 में ए मारिया इरुदयम को कैरम में अर्जुन अवार्ड दिया गया था। मारिया जितनी ही उपलब्धियां उनके पास हैं लेकिन उन्हें अवार्ड नहीं दिया जाता। योगेश ने 2006 में दिल्ली वल्र्ड कप, 2008 में फ्रांस की वल्र्ड कैरम चैम्पियनशिप और 2010 में यूएस में वल्र्ड कप जीता है। दो बार वल्र्ड कप जीतने वाले इस खिलाड़ी ने कहा कि वे 1989 से कैरम खेल रहे हैं और इस खेल ने उन्हें काफी ऊंचाइयां दी हैं। मैं कैरम को भगवान मानता हूं। यह पूछने पर कि किस राज्य के खिलाडिय़ों से उन्हें कड़ी  टक्कर मिलती है तो उन्होंने कहा कि हर स्टेट का खिलाड़ी बेहतर प्रदर्शन करता है और कैरम जैसे खेल में यह नहीं कहा जा सकता कि कौन सा खिलाड़ी कब बेहतर खेल का प्रदर्शन करके दिखा दे। उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर श्रीलंका, मालदीव, बांग्लादेश, मलेशिया के खिलाडिय़ों से कड़ी टक्कर मिलती है। योगेश ने यह भी कहा कि क्रिकेट को मीडिया की वजह से प्रोत्साहन मिला है और कैरम जैसे खेलों को भी मीडिया ही आगे बढ़ा सकती है। यदि मीडिया का सहयोग मिले तो इस खेल को भी कई प्रायोजक मिलेंगे जिसका फायदा खिलाडिय़ों को मिलेगा। मारिया ने बताया कि ऑल इंडिया कैरम फेडरेशन इस खेल को नेशनल गेम्स  में शामिल करने की मांग कर र हा है और उम्मीद है कि कैरम को राष्ट्रीय  खेलों में पूरी तवज्जो मिलेगी। उन्होंने यह भी कहा कि ओलंपिक में ऐसे बहुत से खेल हैं जिनके न तो ब्लाक स्तर पर खेल आयोजन होते हैं और न स्टेट अथवा लगातार राष्ट्रीय स्तर पर लेकिन उन खेलों को ओलंपिक में तवज्जो दी गई है।

Wednesday 1 February 2012

छत्तीसगढ़ एसोसिएट चैंपियन

0 बीसीसीआई अंडर-16 एसोसिएट ट्राफी टूर्नामेंट का समापन 
0 फाइनल में अरुणाचल प्रदेश को नौ विकेट से हराया
0 कप्तान अजय मंडल ने खेली नाबाद शतकीय पारी
0 मेजबान ने लगाई जीत की हैट्रिक 
विजेता छत्तीसगढ़ के खिलाडी ट्राफी के सात.
 रायपुर। मेजबान छत्तीसगढ़ ने बीसीसीआई अंडर-16 एसोसिएट ट्राफी के फाइनल में सोमवार को अरुणाचल प्रदेश को एकतरफा नौ विकेट से हराकर इस साल जीत की हैट्रिक लगाई। छत्तीसगढ़ की टीम इस साल शानदार प्रदर्शन करते हुए तीन वर्गों अंडर-16 के अलावा अंडर-19 व सीनियर महिला वर्ग में चैंपियन बनी, जबकि अंडर-22 वर्ग में प्रदेश टीम पहले ही चैंपियन बनकर प्लेट ग्रुप में जगह बना चुकी है।  
इसी तरह अंडर-16 वर्ग में भी मिली एकतरफा जीत के बाद प्रदेश टीम को अंडर-16 जोन में जगह मिलने की संभावना बन गई है। 
परसदा स्थित अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में फाइनल मुकाबला छत्तीसगढ़ और अरुणाचल प्रदेश के बीच खेला गया। अरुणाचल प्रदेश ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवर में सात विकेट पर 155 बनाए। टीम की ओर से नेताजी टेरोन के बेहतरीन 54 रनों की अर्धशतकीय पारी व तेजस्वी मलिक के नाबाद 49 रन शामिल हैं। दोनों बल्लेबाजों के अलावा अरुणाचल का कोई भी बल्लेबाज ज्यादा देर तक क्रीज पर टिक नहीं पाया। छत्तीसगढ़ की ओर से फरहान फिरोज ने सधी हुई गेंदबाजी करते हुए 10 ओवरों में तीन मैडन के साथ 28 रन देकर चार विकेट लिए। इसके अलावा आकाश  सक्सेना व कप्तान अजय मंडल को एक-एक विकेट लिया। 
जवाब में छत्तीसगढ़ ने 156 रनों के आसान लक्ष्य को आशा के अनुरूप 30.1 ओवर में एक विकेट खोकर हासिल कर लिया। टीम की ओर से कप्तान अजय मंडल ने नाबाद शतकीय पारी खेली। अजय ने 86 गेंदों में 13 चौकों व एक छक्के की मदद से धुआंॅधार 100 रन बनाए। हेमेंद्र सिंह यादव ने भी 51 रनों की सूझबूझ पारी खेली। उन्होंने 91 गेंदों में 5 चौके जड़े। इस तरह छत्तीसगढ़ ने नौ विकेट से जीत हासिल कर खिताब पर कब्जा कर लिया।
भाटिया ने बांटे पुरस्कार 
समापन व पुरस्कार वितरण समारोह में छत्तीसगढ़ क्रिकेट संघ के अध्यक्ष बलदेव सिंह भाटिया ने विजेता खिलाड़ियों को ट्राफी प्रदान की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि हमारी टीम में काफी क्षमता है और आने वाले प्लेट ग्रुप व जोन मैचों के लिए हमारी टीम तैयार है। उन्होंने टीम को बधाई देते हुए कहा कि इसी तरह हमें भविष्य में अच्छा करना है। छत्तीसगढ़ को क्रिकेट जगत में अच्छा मुकाम हासिल करना है। इस मौके पर संघ के सचिव राजेश दवे, कोषाध्यक्ष विजय शाह समेत अन्य पदाधिकारी व खिलाड़ी मौजूद थे।