About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Sunday 30 January 2011

जोकोविक बने आस्ट्रेलियन ओपन के बादशाह

मरे को हराकर पुरुष एकल खिताब पर किया कब्जा

मेलबोर्न. नोवाक जोकोविक ने बेहतरीन खेल का नजारा पेश करते हुए रविवार को एंडी मरे का 75 साल बाद ग्रैंड स्लैम विजेता ब्रिटिश खिलाड़ी बनने का सपना तोड़कर आस्ट्रेलियाई ओपन टेनिस टूर्नामेंट में पुरुष एकल के खिताब पर कब्जा जमा लिया।
दुनिया के नंबर तीन सबिर्याई जोकोविक ने खिताबी मुकाबले में मरे को लगातार सेट में 6-4, 6-2, 6-3 से हराकर अपना दूसरा ग्रैंड स्लैम खिताब हासिल किया। इससे पहले उन्होंने 2008 म आस्ट्रेलियाई ओपन के रूप में ही पहला ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट जीता था। यह पिछले तीन साल में पहला ग्रैंड स्लैम फाइनल था जिसमें रोजर फेडरर या राफेल नडाल में से कोई नहीं था। जोकोविक ने पांचवीं वरीय मरे पर शुरू से दबदबा बनाए रखा और आखिर में जीत की खुशी में अपनी हाफपैंट निकाल दी।
मरे इस हार से बेहद निराश थे क्योंकि तीसरी बार वह किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के फाइनल में पराजित हुए हैं। इससे पहले भी दोनों अवसरों पर लगातार सेट में हार गए थे। ब्रिटेन के लिए फ्रेड पैरी ने आखिरी बार 1936 में ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट जीता था और मरे की हार से ब्रिटिशवासियों को फिर से निराशा ही हाथ लगी। मरे हालांकि मैच में किसी भी समय खिताब जीतने की स्थिति में नहीं दिखे। जोकोविक ने उन पर शुरू से दबाव बना दिया और दो घंटे 39 मिनट तक चले मैच में आसान जीत दर्ज की। यह जोकोविक का लगातार दूसरा ग्रैंड स्लैम फाइनल था। वह पिछले साल अमेरिकी ओपन के फाइनल में नडाल से हार गए थे। दिलचस्प बात यह है कि 2007 में भी जब जोकोविक अमेरिकी ओपन में उप विजेता रहे तो उन्होंने इसके बाद आस्ट्रेलियाई ओपन का खिताब जीता था। तब उन्होंने फ्रांसीसी जो विल्फ्रेड सोंगा को हराया था।
जोकोविक ने जीत के बाद कहा, 'मैं इस खिताब को अपने परिवार को समर्पित करता हूं। सर्बिया में हमारे लोगों के लिए यह समय मुश्किल भरा है लेकिन हम प्रत्येक दिन अपने देश को बेहतर तरीके से पेश करने की कोशिश कर रहे हैं और इसलिए यह मेरे देश के लिए है।' जोकोविक और मरे जब से जूनियर सर्किट में खेलते थे तभी से अच्छे मित्र हैं। यह ग्रैंड स्लैम में उनका पहला मुकाबला था। सर्बियाई खिलाड़ी ने कहा, 'हम लंबे समय से एक दूसरे को जानते हैं और उसके खिलाफ खेलना वास्तव में मुश्किल था। आशा है कि आपको (मरे) ग्रैंड स्लैम जीतने का अगला मौका मिलेगा। मुझे पूरा विश्वास है कि आपके पास प्रतिभा है और आप यह मुकाम जरूर हासिल करोगे।' मरे ने बाद में कहा कि जोकोविक ने बेहतरीन खेल दिखाया और वह जीत का हकदार था। उन्होंने कहा, 'पिछले साल की तुलना में मेरा खेल अच्छा था लेकिन आज नोवाक ने अविश्वसनीय रूप से बेहतरीन खेल का नजारा पेश किया। यह हार बहुत निराशाजनक है लेकिन आपको इसे स्वीकार करना होगा।' इस जीत के बावजूद जोकोविक दुनिया के तीसरे नंबर के ही खिलाड़ी बने रहेंगे। नडाल अभी एटीपी रैंकिंग में शीर्ष पर जबकि फेडरर दूसरे स्थान पर हैं। मरे की शुरुआत अपेक्षानुरूप नहीं रही और उनका पहला सर्विस गेम ही 14 मिनट तक चला जिसमें चार बार ड्यूस देखने को मिला।
 इस सेट में दोनों खिलाड़ियों ने नौवें गेम तक अपनी सर्विस बचाए रखी। मरे जब 4-5 से पीछे चल रहे थे तब उन्होंने दसवें गेम में डबल फाल्ट किया और फिर अपना बैकहैंड नेट पर मार दिया। जोकोविच ने यह सेट 59 मिनट में अपने नाम किया। जोकोविक को अगले दोनों सेट भी जीतने में कोई दिक्कत नहीं हुई।

नेस्टर-कैटरीना को मिश्रित युगल का खिताब

कनाडा के डेनियल नेस्टर और स्लोवेनिया की कैटरीना स्रेबोत्निक की दूसरी वरीयता प्राप्त जोडी ने आस्ट्रेलिया के पाल हेनले और चीनी तोइपे की चान जुंग जान को आज यहां 6-3,  3-6,  10-7 से हराकर आस्ट्रेलियन ओपन टेनिस टूर्नामेंट का मिश्रित युगल खिताब जीत लिया।
 नेस्टर और स्रेबोत्रिक ने राड लेवर एरेना में खेले गए इस खिताबी मुकाबले में पहला सेट जीतकर बढत बनाई लेकिन अगले सेट में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। सुपर टाईब्रेक में नेस्टर और स्रेबोत्निक ने 10-7 से जीत दर्ज करते हुए खिताब पर कब्जा कर लिया।  स्रेबोत्रिक का यह आस्ट्रेलियन ओपन में पहला और कुल चौथा मिश्रित युगल ग्रैंड स्लेम खिताब है। उन्होंने दो बार सर्बिया के नेनाद जिमोनजिच के साथ ग्रैंड स्लेम जीता है। नेस्टर के साथ उन्होंने पहली बार कोई ग्रैंड स्लेम खिताब जीता है। नेस्टर ने एलेना लिखोवत्सेवा के साथ 2007 में यहां खिताब जीता था।

No comments:

Post a Comment