About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Wednesday 23 February 2011

छत्तीसगढ़ को छठा पदक कुश्ती में


34वें नेशनल गेम्स में राज्य को मिली सफलता 
आनंद
झारखंड से कमलेश गोगिया 
रांची. झारखंड के 34वें नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ को छठा पदक कुश्ती में मिला। इस तरह पिछले नेशनल गेम्स की तरह छत्तीसगढ़ ने इस नेशनल गेम्स में भी छह पदक हासिल कर लिए हैं। कुश्ती में कांस्य पदक छत्तीसगढ़ के आनंद ने 60 किग्रा वजन वर्ग में दिलाया। छत्तीसगढ़ के खेल इतिहास में कुश्ती में नेशनल गेम्स में यह पहला पदक है। अब तक छत्तीसगढ़ को कराते में स्वर्ण, शूटिंग में दो स्वर्ण व एक कांस्य और बास्केटबाल में एक रजत पदक मिला है।  छत्तीसगढ़ के लिए बुधवार का दिन काफी यादगार रहा क्योंकि इस दिन छत्तीसगढ़ को कुश्ती में पदक मिला और छत्तीसगढ़ को अब तक छह पदक हासिल हो गए। सीआईएसफ के सब-इंस्पेक्टर और मूलत: हरियाणा के रहने वाले आनंद ने 60 किग्रा भार वर्ग के फाइनल में झारखंड के मनीष कुमार को 7-0 से पराजित कर कांस्य पदक हासिल किया। इससे पहले वे सेमीफाइनल में हरियाणा के अनिल कुमार से 1-0 से हार गए थे। आनंद ने पहले राउंड में 5-0 से, दूसरे राउंड में 2-0 से जीत हासिल की थी। इस जीत के बाद आनंद ने कहा कि उसका मकसद भारतीय टीम को अंतरराष्टÑीय प्रतियोगिताओं में पदक दिलाना है।  दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ के लिए हैंडबाल की महिला टीम ने लगभग सातवां पदक तय कर लिया है। प्रदेश की हैंडबाल महिला टीम ने महाराष्टÑ को 32-22 से हराकर अपने पूल में पहला स्थान हासिल किया और साथ ही अंतिम चार में भी जगह बना ली। टीम की कप्तान अनामिका मुखर्जी ने कहा कि छग टीम निश्चय ही पदक हासिल करेगी और हम सेमीफाइनल में पूरी ताकत झोंक देंगे।  पूल में टॉप करने के बाद छत्तीसगढ़ के सभी खिलाड़ी  खुश दिखे और विशेष रूप से रायपुर की मीडिया को वहां पाकर काफी उत्साहित भी दिखी। 
----------------------------------
छत्तीसगढ़ हैंडबाल के सेमीफाइनल में 
छत्तीसगढ़ की महिला हैंडबाल टीम
महिला टीम से पदक की संभावना, पुरुष टीम पंजाब से हारकर बाहर 
रांची. झारखंड के रांची में चल रहे 34वें नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ की महिला हैंडबाल टीम ने अपना विजय अभियान जारी रखते हुए बुधवार को हुए क्वार्टर फाइनल मुकाबले में महाराष्ट्र को रोमांचक मुकाबले में 32-22 से हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। महिला टीम की इस जीत से प्रदेश को एक और पदक की उम्मीद बंध गई। जबकि पुरुष टीम संघर्षपूर्ण मुकाबले में पंजाब से 27-31 से हारकर स्पर्धा से बाहर हो गई।  महिला हैंडबाल टीम ने शुरू से ही बढ़त बनाए रखी। टीम की ओर से डी माधवी ने 8, अनिता राव ने 6, वेंकटलक्ष्मी ने 5, अनामिका मुखर्जी ने 4, करिश्मा ने 3, निधि जायसवाल ने 2 अंक हासिल किए, जबकि जूलियट लारेंस व रूप को एक-एक हासिल करने में सफलता मिली। 
जीत के बाद छत्तीसगढ़ टीम की कप्तान अनामिका मुखर्जी ने कहा कि इस जीत के बाद खिलाड़ियों में जोश है। नेशनल गेम्स में हमारी टीम निश्चित ही पदक हासिल करेगी। छत्तीसगढ़ की टीम असम में हुए 33वें नेशनल गेम्स में स्वर्ण पदक हासिल किया था और टीम इस बार इस सफलता को दोहराएगी। इसके पूर्व दूसरे लीग मैच में छत्तीसगढ़ ने हरियाणा को छह गोल के अंतर के साथ 28-22 अंक से पराजित कर दिया। इस मैच में छत्तीसगढ़ ने शुरुआती बढ़त बनाए रखी और पहले हाफ में ही 14-8 अंक से बढ़त बना ली थी। टीम की करिश्मा साहू ने 9, वेंकट लक्ष्मी ने 5, माधवी ने 5, अनामिका ने 4, श्रीमती एम अनिता राव  और निधि जायसवाल ने दो-दो गोल किए। छत्तीसगढ़ हैंडबाल एसोसिएशन और राज्य ओलंपिक संघ के सचिव बशीर अहमद खान ने बताया कि हैंडबाल की टीम से पदक की उम्मीद है और टीम आशा के अनुरूप प्रदर्शन कर रही है। पुरुष टीम की चुनौती समाप्त महिला टीम की जीत को पुरुष टीम दोहरा न सकी। बुधवार को हुए क्वालीफाइंग राउंड में पंजाब के हाथों 27-31 से हार का सामना करना पड़ा। इसके पूर्व पुरुष टीम ने जम्म- कश्मीर को 17-11 से हराया था, लेकिन दिल्ली से दो गोल से हार गया था।  सेमीफाइनल आज छत्तीसगढ़ की महिला हैंडबाल टीम गुरुवार को शाम 6 बजे सेमीफाइनल में मेजबान झारखंड और पंजाब के बीच होने वाले क्वार्टरफाइनल मुकाबले की विजेता टीम से भिड़ेगी।  छतीसगढ़ की हैंडबाल टीम  श्रीमती अनिता राव, अनामिका मुखर्जी, वेंकट लक्ष्मी, डी माधवी, श्रीमती शबनम फिरोज अंसारी, निशा पाटिल, मति मुरमु (सभी बिलासपुर रेलवे), करिश्मा साहू, श्रीमती जूलियट विनय, दुर्गा तिवारी, रूपा साह, रीना यादव (सभी दुर्ग जिला), निधि जायसवाल (महासमुंद), चित्तेश्वरी ध्रुव (रायपुर), संध्या ध्रुव बिलासपुरसीमा पाठक, सावित्री मंडावी, कोच शेख मौला, बीआर दास, मैनेजर उमेश सिंह।
------------------------------
राहुल पहले ही दौर में बाहर 
राहुल बनर्जी
 जमशेदपुर. राष्टमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता बंगाल के राहुल बनर्जी 34वें राष्ट्रीय खेलों की रिकर्व शैली के पहले ही राउंड में आज उत्तर प्रदेश के अविनाश के हाथों हार कर प्रतियोगिता से बाहर हो गए।  दुनिया के शीर्ष तीरंदाजों में शुमार राहुल दिल्ली राष्टÑमंडल खेलों में व्यक्तिगत स्वर्ण जीतने के अलावा कांस्य पदक विजेता भारतीय टीम के सदस्य भी थे। वह ग्वांगझू एशियाई खेलों में भी कांस्य जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे थे। उन्होंने 2008 और 2009 की विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण जीता था। उनकी हार को 34 वें राष्ट्रीय   खेलों में तीरंदाजी का अब तक का सबसे बड़ा उलटफेटर माना जा रहा है। राहुल पश्चिम बंगाल की टीम की ओर से खेल रहे थे।   ओलंपिक खेलों में केवल रिकर्व शैली की ही तीरंदाजी होती है। रिकर्व के अन्य बड़े सितारों में झारखंड के जयंत तालुकेदार, मंगल सिंह चंपिया, अतानु, पवन खालको. सेना के तरूणदीप राय, उत्तर प्रदेश के कपिल आदि अगले चक्र में चले गए।  महिला वर्ग में स्टार खिलाड़ी दीपिका भी अगले राउंड में चली गई। आज रिकर्व और कम्पाउंड वर्ग में कम से कम आठ नये रिकार्ड भी बने। कल शुरू हुई तीरंदाजी 25 फरवरी तक चलेगी।  
----------------------------
मेजबान खिलाड़ियों ने किया शर्मसार
आंध्रप्रदेश के खिलाड़ियों की जोरदार पिटाई की  
धनबाद. 34वें राष्ट्रीय खेल को शर्मसार करते हुए आज धनबाद के आईएसएम परिसर में चल रहे नेटबाल की स्पर्धा में झारखंड के खिलाड़ियों ने गाली देने की बात को लेकर आंध्रप्रदेश के खिलाड़ियों की जोरदार पिटाई की। घटना में गंभीर रूप से घायल हुए आंध्रप्रदेश के पांच खिलाड़ियों को इलाज के लिए जगजीवन नगर स्थित केन्द्रीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।  घायलों में कुछ की स्थिति बेहद गंभीर बताई गई है। आंध्रप्रदेश के घायल हुए खिलाड़ियों में अशोक कुमार, जेसी किरण रेड्डी, शिवरामाकृष्णन, श्रीनिवासन एवं विक्रमादित्य शामिल हैं। घटना को लेकर काफी देर तक खेल रुका रहा। बाद में आयोजन समिति के पहल पर फिर से अगला खेल शुरू हो सका। मारपीट की इस घटना से आयोजन समिति बेहद शमर्सार है। इस घटना को लेकर आंध्रप्रदेश की टीम की शिकायत पर आज नेट वॉल फेडरेशन आफ इंडिया की बैठक में तीन सदस्यीय जूरी का चयन किया गया, जिसमें जुबेर आलम, बीके शर्मा एवं एस पाटील हैं।    इन्हें इस मामले में निर्णय लेने का अधिकार दिया गया। उक्त तीन सदस्यीय कमेटी ने आपस में विचार-विमर्श करने के बाद सर्वसम्मति से मारपीट की इस घटना में सक्रिय भूमिका निभाने वाले झारखंड के खिलाड़ियों में शमशाद व सुशील कुमार को 34वें राष्ट्रीय खेल में आगे खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस निर्णय के बाद ये दोनों खिलाड़ी अब राष्ट्रीय खेल में हिस्सा नहीं ले सकेंगे। लेकिन आंध्रप्रदेश की टीम इस निर्णय से अभी भी संतुष्ट नहीं हैं और उनकी मांग है कि पूरी झारखंड टीम को इस बार के राष्ट्रीय खेल में खेलने से रोक दिया जाये साथ ही दोषी खिलाड़ियों के विरुध्द आयोजन समिति आपराधिक मुकदमा दर्ज कराए। घटना के संबंध में पता चला है कि आज सुबह आंध्रप्रदेश बनाम झारखंड के बीच चल रहे नेटवॉल मैच में स्कोर 15-13 का चल रहा था। इसी बीच आंध्रप्रदेश के किसी खिलाड़ी के साथ झारखंड के एक खिलाड़ी की तन गयी। झारखंड टीम का आरोप है कि आंध्रप्रदेश के उक्त खिलाड़ी ने उनके खिलाड़ी को गाली दी, जिसकी शिकायत उन्होंने रेफरी से तीन-तीन बार की, लेकिन उन्होंने अनसुनी कर दी। तभी झारखंड के एक खिलाड़ी ने बाल जान-बूझकर बाहर की ओर फेंक दिया। आंध्रप्रदेश का एक खिलाड़ी जब बाल लेने के लिए बाहर गया तो योजनाबध्द तरीके से झारखंड के खिलाड़ियों ने उस पर हमला बोल दिया। इस क्रम में उन्होंने टी केन (गर्म चाय से भरा बर्तन), पानी का जग, फ्लास्क सहित कई अन्य सामानों से आंध्रप्रदेश के खिलाड़ियों को परिसर के अन्दर ही दौड़ा-दौड़ाकर बेरहमीपूर्वक पिटना शुरू किया। इस दौरान एक खिलाड़ी का पैर, दूसरे का कंधा टूट गया, साथ ही अन्य खिलाड़ियों को गहरे जख्म आये हैं। स्थिति बेकाबू होते देख पुलिस को हस्तक्षेप कर स्थिति को नियंत्रण में लेना पड़ा। बाद में घायल खिलाड़ियों को इलाज के लिए जगजीवननगर स्थित केन्द्रीय अस्पताल पहुंचाया गया। इस घटना ने झारखंड में पहली बार हो रहे राष्ट्रीय खेल के इस आयोजन को शमर्सार कर दिया है।
-------------------------
भारोत्तोलन में बना  एक और रिकार्ड  
रवि ने दिखाया कमाल
के. रवि कुमार
 जमशेदपुर. 34वें राष्ट्रीय खेलों की भारोत्तोलन प्रतियोगिता के दूसरे दिन आज पुरुषों के 69 किलो वर्ग में सेना के स्टारभारोत्तोलक के. रवि कुमार ने स्वर्ण जीतने के साथ ही क्लीन एवं जर्क में 166 किलो वजन उठा राष्टÑीय खेलों का एक और नया रिकार्ड बना दिया।  ज्ञातव्य है कि भारोत्तोलन प्रतियोगिता के पहले दिन मंगलवार को भी दो नये रिकार्ड बने थे। दिल्ली के राष्टÑमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता रवि ने सात साल पुराना कीर्तिमान ध्वस्त कर राष्ट्रीय खेलों का नया मीट रिकार्ड बना दिया। पहले यह रिकार्ड सेना के ही जी. वाडीवेलू के नाम था जिन्होंने 16 फरवरी 2002 को 165 किलो वजन उठाया था। रवि ने रिकार्ड बनाने के साथ ही कुल 286 किलो वजन उठा कर स्वर्ण भी जीत लिया।  इससे पहले मंगलवार को पुरूषों के 62 किलो वर्ग में स्वर्ण विजेता तमिलनाडु के एन. सुनील कुमार ने स्रैच में 121 किलो वजन उठा कर नया रिकार्ड बनाया था। लेकिन उनका यह नया रिकार्ड केवल कुछ ही मिनटों तक टिका रहा क्योंकि रजत पदक विजेता सेना के एस देवा कुमार ने थोड़ी देर बाद ही 122 किलो वजन उठा कर उनके रिकार्ड को ध्वस्त कर दिया था।
--------------------------------
10वां दिन : सेना शीर्ष पर, झारखंड 11वें स्थान पर     
रांची. झारखण्ड में चल रहे 34वें राष्टÑीय खेलों में खेल के 10वें दिन केनोइंग और कयनिंग में जोरदार प्रदर्शन के साथ सेना की टीम ने स्वर्ण पदकों का अपना अर्ध शतक पूरा कर लिया और पदक तालिका में वह शीर्ष स्थान पर बना हुआ है। सेना की टीम को खेलों   के दसवें दिन की समाप्ति तक कुल पचास स्वर्ण 37 रजत और 27 कांस्य के साथ कुल 114 पदक प्राप्त हुए हैं। पदक तालिका में लंबी छलांग लगाकर मणिपुर दूसरे स्थान पर पहुंच गया और उसके खाते में कुल 37 स्वर्ण, 23 रजत और 25 कांस्य पदकों को मिलाकर 85 पदक हो गये हैं. मणिपुर ने  तीरंदाजी और फ़ेंसिंग में अच्छा प्रदर्शन किया। पदक तालिका में 34 स्वर्ण, 38 रजत और 38 ही कांस्य पदक जीतकर महाराष्टÑ कुल 110 पदकों के साथ तीसरे स्थान पर खिसक गया। सेना ने कुल पांच और मणिपुर ने छह और स्वर्ण पदक अपने खातों में जोड़े जबकि महाराष्टÑ को एक भी स्वर्ण पदक नहीं मिला।  दिल्ली पदक तालिका में 24 स्वर्ण, 16 रजत और 23 कांस्य पदकों के साथ कुल 64 पदक जीतकर चौथे स्थान पर है। केरल ने  दो और स्वर्ण पदक अपने खाते में जोडेÞ, जिसके साथ वह 23 स्वर्ण 22 रजत और 23 कांस्य पदकों के साथ कुल 68 पदक लेकर तालिका में पांचवें स्थान पर पहुंच गया।  मध्यप्रदेश अपने खातें में एक भी नया स्वर्ण पदक नहीं जोड़ सका और 21 स्वर्ण, 23 रजत और 34 कांस्य पदकों के साथ कुल 78 पदक जीतकर वह तालिका में छठे स्थान पर है। पंजाब ने पुरूष बास्केटबाल का स्वर्ण पदक जीतकर अपने खाते में एक और स्वर्ण पदक जोडा तथा कुल 17 स्वर्ण, 28 रजत और 36 कांस्य पदकों के साथ 81 पदक लेकर वह तालिका में सातवें स्थान पर है। तालिका में उत्तर प्रदेश 16 स्वर्ण, 14 रजत और 17 कांस्य पदक लेकर कुल 47 पदकों के साथ आठवें और हरियाणा 15 स्वर्ण, 20 रजत और 24 कांस्य के साथ 59 पदक लेकर नवें स्थान पर है। कर्नाटक 14 स्वर्ण, 18 रजत और 15 कांस्य पदकों के साथ कुल 47 पदक लेकर तालिका में दसवें स्थान पर है जबकि झारखण्ड 14 स्वर्ण, 14 रजत और 25 कांस्य पदाकों के साथ कुल 53 पदक लेकर 11वें और तमिलनाडु 11 स्वर्ण, सात रजत और 22 कांस्य पदकों के साथ कुल 40 पदक जीतकर 12वें स्थान पर पहुंच गये हैं। 

No comments:

Post a Comment