About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Tuesday 22 February 2011

नेशनल गेम्स : छत्तीसगढ़ को बास्केटबाल में रजत पदक

फाइनल में तमिलनाडु से मिली पराजय, असम नेशनल गेम्स का दोहराया इतिहास
छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम
 रायपुर. झारखंड में चल रहे 34वें राष्ट्रीय खेलों में छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम ने पदक तो हासिल किया लेकिन उसकी स्वर्ण हासिल करने की मंशा पर एक बार फिर से पानी फिर गया। खिताब की दावेदार तमिलनाडु ने छत्तीसगढ़ को 31 अंकों के अंतर से पराजित कर स्वर्ण पदक हासिल कर लिया। छत्तीसगढ़ को रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा। इसके पहले असम के 33वें राष्ट्रीय खेलों में भी तमिलनाडु ने छत्तीसगढ़ को हराकर स्वर्ण पदक हासिल किया था। छत्तीसगढ़ को अब तक राष्ट्रीय खेलों में पांच पदक मिल चुके हैं।
 फाइनल में पहुंची छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम की भिड़ंत खिताब की दावेदार तमिलनाडु के साथ हुई जिसमें दक्षिण रेलवे के खिलाड़ी शामिल थे। छत्तीसगढ़ की टीम ने हालांकि फाइनल में काफी बेहतर खेल का प्रदर्शन दिखाया लेकिन उसकी जीत हासिल करने की मंशा धरी रह गई। हालांकि टीम ने रजत पदक हासिल कर राज्य के खाते में पांचवा पदक जरूर डाला है। फाइनल में छत्तीसगढ़ को 79-48 अंकों से पराजय का सामना करना पड़ा। छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों ने शुरुआती क्वार्टर में हालांकि काफी अच्छे खेल का प्रदर्शन किया लेकिन इसके बाद टीम बिखरी नजर आई और आपसी तालमेल की भी कमी देखने को मिली। हालांकि टीम के अनुभवी और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने पूरी ताकत लगा दी थी स्वर्ण पदक के लिए लेकिन रेलवे के आगे खिलाड़ी बौने साबित हुए। छत्तीसगढ़ की झोली में अब पांच पदक हो गए हैं। छत्तीसगढ़ को पहला पदक कराते में अंबर सिंह भारलाज ने दिलाया था। इसके बाद 21 फरवरी को निशानेबाजी में तीन पदक मिले। पांचवा पदक छत्तीसगढ़ को महिला बास्केटबाल टीम ने दिलाया। पिछले नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ को कुल छह पदक मिले थे जिसमें तीन स्वर्ण और तीन रजत पदक शामिल थे। छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम ने कर्नाटक को पहले लीग मैच मे पराजित किया था। दूसरे मैच में पंजाब को हराकर छत्तीसगढ़ सेमीफाइनल में पहुंची थी। सेमीफाइनल में छत्तीसगढ़ ने दिल्ली को हराकर फाइनल में प्रवेश किया था। छत्तीसगढ़ ने हैदराबाद में 2002 के ने्शनल गेम्स में पहली बार स्वर्ण पदक हासिल किया था। राज्य निर्माण के एक दशक में छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम ने रिकार्ड तीसरी बार फाइनल में प्रवेश किया है। अब तक नेशनल गेम्स के दो रजत और एक स्वर्ण पदक मिल चुके हैं।
टीम : कप्तान अंजु लकड़ा, सीमा सिंह, भारती नेताम, पुष्पा, अकांक्षा सिंह, अरुणा किंडो, एल दीपा, शोषण तिर्की (सभी दपूम रेलवे बिलासपुर), कविता, जेलना जोश (बीएसपी), पूजा देशमुख (रायपुर), निकिता गोदामकर (राजनांदगांव), मुख्य कोच राजेश पटेल, सहायक कोच इकबाल अहमद खान, प्रबंधक साजी टी थामस।
सिर्फ पहले क्वार्टर में मिली बढ़त
छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम को सिर्फ पहले ही क्वार्टर में बढ़त मिल सकी। पहले क्वार्टर में राज्य ने तमिलनाडु के खिलाफ 21-19 अंक से बढ़त बना ली थी। लेकिन इसके बाद के क्वार्टर में छत्तीसगढ़ को पराजय का सामना करना पड़ा। दूसरे क्वार्टर में 31-47, तीसरे क्वार्टर में 45-66 और अंतिम क्वार्टर में 79-58 से पराजय का सामना करना पड़ा। टीम की कप्तान अंजु लकड़ा ने 20, एम पुष्पा ने 10, सीमा सिंह ने 9, अरुणा किंडो ने 8 और भारती नेताम ने 8 अंक बनाए। टीम के कोच राजेश पटेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की टीम का स्वर्ण पदक हासिल करने का सपना टूट गया। हमारे खिलाड़ी दूसरे और तीसरे क्वार्टर में अच्छा नहीं खेल सके। श्री पटेल ने कहा कि फिर भी टीम ने संतोषजनक प्रदर्शन किया और लगातार तीसरी बार हम नेशनल गेम्स के फाइनल में पहुंचे हैं जो राज्य के लिए उपलब्धि है।
फेडरेशन कप का लिया बदला
सही मायने में तमिलनाडु की टीम ने रायपुर में हाल ही में खेली गई 25वीं फेडरेशन कप बास्केटबाल चैंपियनशिप का बदला चुकाया। तमिलनाडु की टीम में सभी खिलाड़ी दक्षिण रेलवे के शामिल थे और चूंकि रेलवे को नेशनल गेम्स में इंट्री नहीं मिलती, इसलिए दक्षिण रेलवे के खिलाड़ियों ने तमिलनाडु का प्रतिनिधित्व किया। फेडरेशन कप में छत्तीसगढ़ ने तमिलनाडु को फाइनल मुकाबले में पराजित किया था। इस हार का बदला तमिलनाडु ने नेशनल गेम्स में ले लिया। असम के 33वें राष्ट्रीय खेलों में भी तमिलनाडु ने छत्तीसगढ़ को शिकस्त दी थी।
------------------------------
हैंडबाल टीम का विजय अभियान जारी
छत्तीसगढ़ की महिला हैंडबाल टीम
34वें राष्ट्रीय खेलों में छत्तीसगढ़ की महिला हैंडबाल टीम का विजय अभियान जारी है। दूसरे लीग मैच में छत्तीसगढ़ ने हरियाणा को छह गोल के अंतर के साथ 28-22 अंक से पराजित कर दिया। इस मैच में छत्तीसगढ़ ने शुरुआती बढ़त बनाए रखी और पहले हाफ में ही 14-8 अंक से बढ़त बना ली थी। टीम की करिश्मा साहू ने 9, वेंकट लक्ष्मी ने 5, माधवी ने 5, अनामिका ने 4, श्रीमती एम अनिता राव  और निधि जायसवाल ने दो-दो गोल किए। छत्तीसगढ़ हैंडबाल एसोसिएशन और राज्य ओलंपिक संघ के सचिव बशीर अहमद खान ने बताया कि हैंडबाल की टीम से पदक की उम्मीद है और टीम आशा के अनुरूप प्रदर्शन कर रही है।
टीम : श्रीमती अनिता राव, अनामिका मुखर्जी, वेंकट लक्ष्मी, डी माधवी, श्रीमती शबनम फिरोज अंसारी, निशा   पाटिल, मति मुरमु (सभी बिलासपुर रेलवे), करिश्मा साहू, श्रीमती जूलियट विनय, दुर्गा तिवारी, रूपा साह, रीना यादव (सभी दुर्ग जिला), निधि जायसवाल (महासमुंद), चित्तेश्वरी ध्रुव (रायपुर), संध्या ध्रुव बिलासपुर,  सीमा पाठक, सावित्री मंडावी, कोच शेख मौला, बीआर दास, मैनेजर उमेश सिंह।
-----------------------
कलाम करेंगे खेल गांव का दौरा
रांची. पूर्व राष्टपति ए पी जे अब्दुल कलाम झारखंड में खेले जा रहे 34वें राष्ट्रीय खेलों के यहा स्थित खेलगांव का दौरा करेगें।
 आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां कहा कि श्री कलाम का 24 फरवरी को इंजीनियरिंग कालेज बीआईटी मेसरा के दीक्षांत समारोह में भाग लेने का कार्यक्रम है। इस दौरान वह खेलगांव का भी दौरा करेंगे। सूत्रों ने बताया कि इस दौरान पूर्व राष्ट्रपति विजेताओं को पदक भी प्रदान करेगें। राज्य पुलिस मुख्यालय के सूत्रों ने बताया कि श्री कलाम के इस दौरे के दौरान राजधानी रांची में सुरक्षा के कडे इंतजाम किये गये हैं। ज्ञातव्य है कि हाल ही में टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल ने भी खेलगांव का दौरा किया था।
 ----------------------------------------------------------------------------
मणिपुर ने  स्वर्ण समेत तीन पदक झटके

जमशेदपुर. मणिपुर की के प्रवाहिनी देवी ने आज 34 वें राष्टÑीय खेलों की तीरंदाजी स्पर्धा की (इंडियन) शैली के महिला एकल फाइनल में मेजबान झारखंड की जयलक्ष्मी को नजदीकी मुकाबले में 6-4 से हरा कर प्रतियोगिता का पहला स्वर्ण जीत लिया।
 इसके थोड़ी देर बाद खेले गये पुरुष वर्ग के फाइनल में असम के कोन्साई बोरगवारी ने सेना के सूरज सिंह को 6-2 से पीट कर स्वर्ण जीत लिया।  जयलक्ष्मी और सूरज को अपने-अपने वर्ग में रजत पदक से संतोष करना पड़ा1 महिला वर्ग में तीसरे स्थान के लिए हुए मुकाबले में मणिपुर की टी एच इशाएम्बी देवी ने दिल्ली की मीनाकुमारी को 6-0 से जबकि पुरुष वर्ग में मणिपुर के एन सुभाषचंद्रा ने बिहार के रोहित सिंह को 6-4 से हरा कर कांस्य पदक जीते।  टीम वर्ग के फाइनल मुकाबले भी आज ही होंगे। तीरंदाजी स्पर्धा सोमवार से शुरू हुई थी और इसका इंडियन राउंड आज समाप्त हो जाएगा। कंम्पाउंड और रिकर्व मुकाबले 25 तक चलेंगे।
-----------------------
सेना ने जीता भारोत्तोलन का पहला स्वर्ण
जमशेदपुर. 34वें राष्ट्रीय खेलों की मंगलवार से शुरू हुई भारोत्तोलन स्पर्धा का पहला स्वर्ण सेना के वी श्रीनिवास राव ने जीता।  दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य जीत चुके श्रीनिवास ने आज पुरूषों के 56 किलो वर्ग में स्रैच तथा क्लीन और जर्क में क्रमश: 100 और 126 किग्रा का अधिकतम वजन उठा कर कुल 226 किलो के साथ पहला स्थान हासिल कर स्वर्ण पदक जीत लिया। अपने पहले राष्टÑीय खेलों में शिरकत कर रहे महाराष्टÑ के मयूर सिंहासने ने बेहद नजदीकी अंतर से पिछडते हुए रजत पदक हासिल किया1 उन्होंने स्रैच और क्लीन और जर्क में क्रमश. 103 और 122 किलो के अधिकतम वजन के साथ कुल 225 किलो वजन उठाया।  यहां एक्सएलआरआई परिसर स्थित टाटा आडिटोरियम में चल रही प्रतियोगिता में तमिलनाडु के एम तमिलसेल्वन 95 और 110 के अधिकतम वजन के साथ कुल 205 किलो उठाकर तीसरे स्थान पर रहे1 उन्हें कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।  25 फरवरी तक चलने वाली इस प्रतियोगिता में कुल 88 प्रतिभागी हैं। पुरूष वर्ग में कुल आठ तथा महिला वर्ग में सात भाग वर्ग है। इसमें कुल 15 स्वर्ण दांव पर लगे हैं जिनमें से चार का फैसला पहले दिन होगा। आज 48 और 53 किलो वर्ग महिला तथा 52 किलो पुरूष वर्ग के मुकाबले भी होंगे।

No comments:

Post a Comment