About Me

My photo
"खेल सिर्फ चरित्र का निर्माण ही नहीं करते हैं, वे इसे प्रकट भी करते हैं." (“Sports do not build character. They reveal it.”) shankar.chandraker@gmail.com ................................................................................................................................................. Raipur(Chhattigarh) India

Monday 21 February 2011

झारखंड में छत्तीसगढ़ का तहलका

शूटिंग में तीन पदक, बास्केटबाल में दिल्ली को रौंदा, हैंडबाल की दोनों टीमें जीतीं
  छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के सचिव बशीर अहमद खान (क्रमश: बाएं से), पीपी सिंग,
बाबा पीएस बेदी और मिराज अहमद खान पदक के साथ।

रायपुर. झारखंड के 34वें नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ ने अपनी उपस्थिति का अहसास करा ही दिया। छत्तीसगढ़ से शूटिंग में पदक की काफी उम्मीदें थीं जिस पर टीम के खिलाड़ी खरे उतरे और सोमवार को तीन पदक हासिल कर लिए। बास्केटबाल में छत्तीसगढ़ की महिला टीम ने राज्य का झंडा बुलंद रखा और खिताब की दावेदार दिल्ली को हराकर फाइनल में प्रवेश कर लिया तो हैंडबाल में राज्य की महिला और पुरुष दोनों टीमों ने लीग में पहला मैच जीतकर अपने इरादे जता दिए।
 छत्तीसगढ़ की शूटिंग टीम में जिंदल स्टील रायगढ़ के अनुभवी खिलाड़ी शामिल हैं और नेशनल गेम्स में इन खिलाड़ियों से पदक हासिल करने की पूरी उम्मीद थी। टीम के कप्तान पीपी सिंग ने स्कीट इवेंट में स्वर्ण पदक हासिल कर लिया तो बाबा पीएस बेदी ने इसी इवेंट में कांस्य पदक पाया। टीम इवेंट में इन दोनों खिलाड़ियों के अलावा मैराज अहमद खान ने टीम इवेंट का स्वर्ण पदक हासिल किया। छत्तीसगढ़ के लिए सोमवार का दिन खुशियों की सौगात भरा दिन रहा। खेलगांव में मौजूद छत्तीसगढ़ के दल में भी खुशी की लहर दौड़ पड़ी। एक ही दिन एक साथ नेशनल गेम्स के तीन पदक छत्तीसगढ़ के खेल इतिहास में पहली बार राज्य को हासिल हुए हैं। इतना ही नहीं छत्तीसगढ़ ने बास्केटबाल में भी अपना पदक तय कर लिया। कल तक छत्तीसगढ़ की झोली में पांच पदक आ जाएंगे। इसके बाद नजरें टिकी रहेंगी राज्य की महिला और पुरुष बास्केटबाल टीम पर जिसने सोमवार को अपने-अपने लीग मुकाबलों में जीत के साथ शुरुआत की। छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के सचिव बशीर अहमद खान ने नेशनल लुक को बताया कि हैंडबाल की पुरुष टीम ने अपने पहले लीग मैच में जम्मू-कश्मीर को 13 अंकों के अंतर से पराजित कर दिया। इस मैच को जीतने में छत्तीसगढ़ को किसी विशेष कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ा। छत्तीसगढ़ ने 42-29 अंक से जीत हासिल की। पहले हाफ में छत्तीसगढ़ ने 20-13 से बढ़त बना ली थी। छत्तीसगढ़ के कुनाल ने सर्वाधिक 11, वी बीनू ने 7, कलिता ने 6, संजीव ने 6, राजेश कुमार ने 4, अंक बनाए। जम्मू के नीरज ने 8, साहिल ने 7 और हरमुख ने 6 अंक बनाए। इस जीत के साथ ही छत्तीसगढ़ ने अपना विजय अभियान शुरू कर दिया है और उम्मीद की जा रही है कि टीम पदक हासिल करेगी। पुरुष टीम के साथ-साथ छत्तीसगढ़ की महिला टीम ने भी लीग मैच में विजयी शुरुआत की। छत्तीसगढ़ की पहले लीग मैच में मणिपुर के साथ भिड़ंत हुई और इस मैच में राज्य की टीम ने 44-20 (एकतरफा 24 अंकों की बढ़त) से जीत हासिल कर ली। पहले हाफ में छत्तीसगढ़ ने 20-11 से बढ़त बना ली थी। टीम में शामिल अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने काफी बेहतर खेल का प्रदर्शन किया। टीम की वेंकट लक्ष्मी ने सर्वाधिक 14 अंक, डी माधवी ने 9, करिश्मा साहू ने 8 और श्रीमती अनिता राव ने चार अंक बनाए। मणिपुर की ओ संध्या ने छह और रेबिका देवी ने पांच अंक बनाए। नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ की महिला और पुरुष दोनों टीम से इस बार पदक की उम्मीदें हैं। राज्य हैंडबाल संघ के सचिव बशीर अहमद खान के मुताबिक दोनों टीमों में अनुभवी खिलाड़ी शामिल हैं और नेशनल गेम्स के लि दोनों टीम के खिलाड़ियों ने काफी कड़ा अभ्यास भी किया है।
छत्तीसगढ़ की टीमें
महिला बास्केटबाल टीम : कप्तान अंजु लकड़ा, सीमा सिंह, भारती नेताम, पुष्पा, अकांक्षा सिंह, अरुणा किंडो, एल दीपा, शोषण तिर्की (सभी दपूम रेलवे बिलासपुर), कविता, जेलना जोश (बीएसपी), पूजा देशमुख (रायपुर), निकिता गोदामकर (राजनांदगांव), मुख्य कोच राजेश पटेल, सहायक कोच इकबाल अहमद खान, प्रबंधक साजी टी थामस।
हैंडबाल की टीमें :
पुरुष : फिरोज अहमद खान, बीनू वी, फाजिल अहमद खान, ज्योति कुमार, अनिल कुमार निर्मलकर, सैय्यद जफर हुसैन, कुनाल, (सभी दुर्ग जिला सीअईएसएफ), विश्वजीत , प्रेम कुमार, अनिल कुमार (बिलासपुर रेलवे), सलमान खान, संजीव, योगेश, राजेश  कुमार, अनिल कुमार कौशिक, (सभी दुर्ग जिला), चीफ कोच : सुरेश कुमार, सहायक कोच अमरनाथ सिंह, मैनेजर आलोक दुबे।
महिला : श्रीमती अनिता राव, अनामिका मुखर्जी, वेंकट लक्ष्मी, डी माधवी, श्रीमती शबनम फिरोज अंसारी, निश पाटिल, मति मुरमु (सभी बिलासपुर रेलवे), करिश्मा साहू, श्रीमती जूलियट विनय, दुर्गा तिवारी, रूपा साह, रीना यादव (सभी दुर्ग जिला), निधि जायसवाल (महासमुंद), चित्तेश्वरी ध्रुव (रायपुर),संध्या ध्रुव बिलासपुर,  सीमा पाठक, सावित्री मंडावी, कोच शेख मौला, बीअर दश, मैनेजर उमेश सिंह।
-----------------------------
बास्केटबाल में छत्तीसगढ़ की धाक
 रायपुर में हुए  फेडरेशन कप में जिस तरह छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम ने दिल्ली को करारी शिकस्त दी थी उसी तरह सोमवार को झारखंड में भी छत्तीसगगढ़ ने दिल्ली को करारी शिकस्त देकर फाइनल में जगह बना ली। रोमांचक और संघर्षपूर्ण रहे इस सेमीफाइनल मुकाबले में छत्तीसगढ़ ने दिल्ली को 80-63 अंक से पराजित किया। इस मैच का डीडी स्पोर्ट्स पर सीधा प्रसारण किया गया। इस मैच के पहले ही क्वार्टर से छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों ने काफी बेहतर खेल का प्रदर्शन दिखाया। छत्तीसगढ़ ने 27-18 अंकों से बढ़त बना ली थी। दूसरे क्वार्टर में छत्तीसगढ़ ने 40-34 अंकों की बढ़त बनाई। तीसरा क्वार्टर काफी   रोमांचक रहा जिसमें दिल्ली के खिलाड़ियों ने काफी अच्छा खेल दिखाया लेकिन छत्तीसगढ़ की बढ़त को वे रोक नहीं सके। तीसरे क्वार्टर में छत्तीसगढ़ ने 59-47 अंक की बढ़त बना ली। टीम की कप्तान और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी अंजु लकड़ा ने काफी अच्छे खेल का प्रदर्शन किया। अंजु का ड्राइविंग शाट काफी बेहतरीन था। तीसरे क्वार्टर में एक समय डिड फार डेड जैसी स्थिति बन गई थी। तीसरे क्वार्टर में दिल्ली की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी प्रशंति सिंह ने दबाव को कम करने में अहम भूमिका निभाई लेकिन वे तीसरा क्वार्टर टीम को जिताने में असफल रहीं। चौथे क्वार्टर में छत्तीसगढ़ ने 80-63 अंक से बढ़त हासिल कर फाइनल में जगह बना ली। टीम के फाइनल में पहुंचने के साथ ही एक और पदक तय हो गया है। इस मैच में कप्तान अंजु लकड़ा ने 23 अंक, एम पुष्पा ने सर्वाधिक 28 अंक, सीमा सिंग ने 13 और भारती नेताम ने 17 अंक बनाए।
----------------------------------------------
पदकों की हैट्रिक पर लगा निशाना
 रायपुर. 34वें नेशनल गेम्स में कराते का पहला स्वर्ण पदक मिलने के बाद सोमवार को छत्तीसगढ़ ने शूटिंग में तीन पदक हासिल कर अपने पदकों की संख्या चार कर ली। छत्तीसगढ़ ने महिला बास्केटबाल में भी अपनी उम्मीदों के अनुरूप प्रदर्शन कर फाइनल में जगह बना ली। दूसरी तरफ हैंडबाल की महिला टीम ने भी अपना विजय अभियान शुरू कर दिया। छत्तीसगढ़ से झारखंड नेशनल गेम्स में पिछले छह पदकों के रिकार्ड के टूटने की पूरी उम्मीद है। राज्य की इस उपलब्धि पर राज्यपाल शेखर दत्त, छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह सहित खेल मंत्री लता उसेंडी, खेल सचिव सुब्रत साहू, खेल संचालक जीपी सिंह और सांसद नवीन जिंदल सहित खेल जगत की कई हस्तियों ने हर्ष व्यक्त किया है।
 छत्तीसगढ़ को सबसे पहला स्वर्ण पदक कराते में मिला था। इसके बाद छत्तीसगढ़ का खाता नहीं खुला था। लेकिन सोमवार को एक साथ शूटिंग में तीन पदक मिलने से प्रदेश के खेल जगत में हर्ष की लहर दौड़ गई। छत्तीसगढ़ से शूटिंग में पदक की काफी उम्मीदें की जा रही थीं। पिछले नेशनल गेम्स में भी छत्तीसगढ़ को शूटिंग में पदक मिला था।
इस समय झारखंड में मौजूद छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के सचिव बशीर अहमद खान ने बताया कि राज्य को टीम इवेंट में दो स्वर्ण पदक और व्यक्तिगत इवेंट में एक कांस्य पदक मिला। कप्तान पीपी सिंग ने व्यक्तिगत  स्कीट इवेंट में स्वर्ण पदक हासिल किया। पीपी सिंग ने 150 में से सर्वाधिक 143 अंक बनाए और स्वर्ण पदक हासिल कर लिया। इसी इवेंट में बाबा पीएस बेदी ने 150 में से 140 अंकों के साथ कांस्य पदक हासिल किया जबकि सर्विसेस के एडी पिनाल ने रजत पदक हासिल किया। टीम इवेंट में छत्तीसगढ़ के पीपी सिंग, बाबा पीएस बेदी और मिराज अहमद खान ने राज्य का प्रतिनिधित्व किया और  टीम इवेंट में भी छत्तीसगढ़ ने स्वर्ण पदक हासिल कर लिया। छत्तीसगढ़ ने 375 में से 353 अंक हासिल कर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। छत्तीसगढ़ की टीम के सभी खिलाड़ी जिंदल स्टील रायगढ़ में कार्यरत हैं। टीम के कोच दुर्गेश वशिष्ठ और दुर्गेश गुप्ता हैं।
---------------------------------------

No comments:

Post a Comment